बारिश में अपनी त्वचा के लिए इस तरह बनाएं आयुर्वेदिक क्लींज़र

बारिश के मौसम में घर और कपड़ों की सफाई के साथ-साथ अपने शरीर और त्वचा की सफाई रखना भी बहुत महत्वपूर्ण है। बरसात के मौसम में होने वाली नमी की वजह से बहुत से लोगों को त्वचा पर दाने निकलने और रंग के दबने की शिकायत होती है, जो कि किसी भी फेस वाश या क्लींज़र से ठीक नहीं होता है। इस समस्या के निदान के लिए बेहतर है कि आप घर पर मौजूद प्राकृतिक सामानों से अपने चेहरे की सफाई करके सुरक्षित तरीके से चेहरे पर चमक लाएं।
तो आइए, हम आपको बताते हैं कि बरसात के मौसम के लिए अलग-अलग प्रकार की त्वचा के लिए क्लींज़र कैसे बनाए जाएं।

साधारण त्वचा के लिए क्लींज़र

लाल मसूर की दाल मिक्सी में पीस कर एक कंटेनर में भर कर बाथरूम रख लें। जब भी चेहरा धोएं, एक चम्मच मसूर की दाल का पाउडर लेकर उसमे उपयुक्त मात्रा में पानी मिलाकर पेस्ट बना लें और अपने चेहरे पर लगा कर अच्छी तरह से रगड़ें। बाद में इसको ठन्डे पानी से धो लें।

how to prepare ayurvedic cleansers to take care of your skin during monsoon

शुष्क त्वचा के लिए क्लींज़र

एक चम्मच बेसन में आधा चम्मच मलाई और आधा चम्मच शहद मिलाकर अपने चेहरे पर लगाकर रगड़ें। दो मिनट तक रगड़ने के बाद चेहरे को ठन्डे पानी से धो लें। बेसन त्वचा की अच्छी तरह से सफाई करता है, मलाई चेहरे की त्वचा की शुष्कता दूर करती है और शहद त्वचा को मुलायम बनाता है।

how to prepare ayurvedic cleansers to take care of your skin during monsoon

तैलीय त्वचा के लिए क्लींज़र

एक चम्मच एलोवेरा जेल में एक चम्मच मुल्तानी मिट्टी का पाउडर और दो चम्मच गुलाब जल मिलाकर अपने चेहरे पर लगाकर रगड़ें। दो मिनट तक रगड़ने के बाद चेहरे को ठन्डे पानी से धो लें। एलोवेरा जेल त्वचा के छिद्रों में जाकर उनकी सफाई करता है, मुल्तानी मिट्टी त्वचा के अतिरिक्त तेल को सोख कर उसकी सफाई करती है और गुलाबजल चेहरे को ठंडक और ताज़गी देता है।

how to prepare ayurvedic cleansers to take care of your skin during monsoon

कील-मुहांसों वाली त्वचा के लिए क्लींज़र

नीम के पत्तों का बारीक पेस्ट बनाकर एक कंटेनर में भर कर फ्रिज में रख लें। एक चम्मच  मुल्तानी मिट्टी के पाउडर में आधा चम्मच गुलाब जल और एक चम्मच नीम का पेस्ट डालकर अच्छी तरह से मिला लें। इसको चेहरे पर लगाकर अच्छी तरह से दो मिनट तक रगड़ें। बाद में ठन्डे पानी से चेहरा धो लें। नीम के पत्ते प्राकृतिक रोगानुरोधक और जीवनुरोधक होते हैं, मुल्तानी मिट्टी त्वचा की नमी को सोख कर उसकी सफाई करती है और गुलाबजल चेहरे को ठंडक और ताज़गी देता है।

how to prepare ayurvedic cleansers to take care of your skin during monsoon

जननम कहे हां

  • चेहरा धोने के लिए ठन्डे पानी का इस्तेमाल
  • दिन में दो बार घर के क्लींज़र से चेहरा धोना
  • बरसात में पानी अधिक मात्रा में पीना

जननम कहे ना

  • साबुन या फेस वाश से चेहरा धोना
  • बारिश में बाहर का खाना-पीना
  • गंदे तौलिये से चेहरा पौंछना

यह भी पढ़ें : -

आज ही जननम फेसबुक कम्युनिटी को ज्वाइन करें जहां हमारे एक्सपर्ट्स प्रेगनेंसी के हर पहलू पर टिप्स दे रहे हैं -यहाँ क्लिक करें

जननम आपको सही, सटीक और उपयोगी जानकारी उपलब्ध कराने के लिए हमेशा आपके साथ हैं। लेकिन इसी के साथ आपको डॉक्टर से सलाह लेना भी ज़रूरी है।


Other articles related to this

वसंत का मौसम त्वचा के लिए दुविधा भरा होता है। इस समय में त्वचा को बहुत अधिक मॉइस्चराइज करने की भी आव...

तैलीय बालों को अतिरिक्त देखभाल की आवश्यकता होती है, क्योंकि वे धोने के एक दिन बाद ही चिकने हो जाते ह...

मानसून में रूखे बाल किनारों से अलग होकर गिरने लगते हैं, लेकिन कुछ घरेलू उपचारों के ज़रिए आप इस समस्य...

वसंत ऋतु में बालों में डैंड्रफ या रूसी की समस्या सबसे अधिक होती है। ऐसे में रूसी के कारण बालों का झड़...

वैसे तो सर्दियों में त्वचा को नमी देने के लिए आप मॉइस्चराइज़र का इस्तेमाल करती ही होंगी, फिर भी अगर ...

त्वचा का रूखापन सर्दियों की सबसे बड़ी समस्याओं में से एक है। त्वचा के रूखेपन को दूर रखने के लिए हम सब...

Other articles related to this

वसंत का मौसम त्वचा के लिए दुविधा भरा होता है। इस समय में त्वचा को बहुत अधिक मॉइस्चराइज करने की भी आवश्यकता नहीं होती और मॉइस्चराइज न करने पर रूखापन भी महसूस होता है। ऐसे में बाज़ार में उपलब्ध मॉइस्चराइज़र

तैलीय बालों को अतिरिक्त देखभाल की आवश्यकता होती है, क्योंकि वे धोने के एक दिन बाद ही चिकने हो जाते हैं। स्कैल्प को स्वस्थ रखने के लिए घरेलू उपचार के साथ उचित हेयरकेयर सबसे ज़रूरी है। लेकिन इसके लिए बाज़ार के केमिकल-युक्त प्रोडक्ट का इस्तेमाल करने के बजाय घर में ही प्राकृतिक रूप से तैयार चीज़ों का उपयोग करें, तो बेहतर।

मानसून में रूखे बाल किनारों से अलग होकर गिरने लगते हैं, लेकिन कुछ घरेलू उपचारों के ज़रिए आप इस समस्या से छुटकारा पा सकती हैं। बालों के झड़ने और बालों में रूखापन आने से बचने के लिए घर में ही बने तेल, शैम्पू और कंडीशनर का उपयोग करें।

वसंत ऋतु में बालों में डैंड्रफ या रूसी की समस्या सबसे अधिक होती है। ऐसे में रूसी के कारण बालों का झड़ना भी आम बात ही है। इसके लिए ज़रूरी है कि बालों का सही ढंग से उपचार हो। इन बेहद आसान घरेलू तरीकों से आप अपने बालों को डैंड्रफ मुक्त कर सकती हैं।

वैसे तो सर्दियों में त्वचा को नमी देने के लिए आप मॉइस्चराइज़र का इस्तेमाल करती ही होंगी, फिर भी अगर आप सप्ताह या दस दिन में एक बार अपने चेहरे पर फेस मास्क का इस्तेमाल करें, तो आपकी त्वचा और भी अधिक

त्वचा का रूखापन सर्दियों की सबसे बड़ी समस्याओं में से एक है। त्वचा के रूखेपन को दूर रखने के लिए हम सब हर तरह के लोशन और क्रीम का इस्तेमाल करते हैं। फिर भी थोड़ी देर में त्वचा फिर से रूखी हो जाती है, क्योंकि

जननम कम्युनिटी से जुड़ने के फायदे!

Join the #1 global parenting resource and start receiving the following helpful newsletter:

Join the community now!

Fill the following & enjoy perks!

Due Date or child's birthday