गर्भवती महिलाएं गर्मी के मौसम में इन 5 बातों का अवश्य रखें ख्याल

गर्भावस्था  में अपना ख्याल बहुत अच्छी तरह से रखने की ज़रूरत होती है, क्योंकि अगर आप स्वस्थ हैं तो गर्भ में पल रहा शिशु  भी सेहतमंद होता है। ऐसे में आपकी इम्युनिटी सीधे तौर पर शिशु से जुड़ी होती है। इसलिये मां जो खाती है, पीती है, उसका सीधा असर शिशु पर पड़ता है, उसी से आपकी और आपके शिशु की रोग  प्रतिरक्षा प्रणाली  विकसित होती है।

अगर आपके बच्चे का विकास सही तरीके से नहीं हो पा रहा है, तो इसके लिये आपका इम्युन सिस्टम ज़िम्मेदार है। गर्भवती में एक मज़बूत प्रतिरक्षा प्रणाली का मतलब है स्वस्थ भ्रूण। यहां हम बताने जा रहे हैं कुछ प्राकृतिक खान-पान, जिनसे आपकी और शिशु की सेहत जुड़ी है।

(1) अच्छा खाएं, अच्छा पिएं (Healthy Diets for Pregnant Women)

दही और केफिर

  • नियमित रूप से प्रोबायोटिक्स लें। प्रोबायोटिक्स प्राकृतिक रूप से केफिर, दही जैसे खाद्य पदार्थों में होते हैं।
  • ये आपका इम्युन सिस्टम मज़बूत करते हैं और बच्चे के विकास में मदद करते हैं।
  • बच्चे को लंबे समय तक किसी भी अस्थमा और एलर्जी से बचाने में मदद कर सकते हैं।

पर्याप्त पोषण

प्रेगनेंसी में अलग-अलग तरह की चीजें खाने, थोड़ा अधिक खाने या गैस की समस्या से पेट फूल जाता है। जलन होती है । थोड़ी-थोड़ी बातें ध्यान में रखने से ये समस्याएं नहीं होंगी और आप जो भी खाएंगी वह शरीर आसानी से पचा लेगा। प्रेगनेंसी में भले ही कुछ महिलाओं का मन खट्टे-मीठे, चटपटे खाने को होता है, लेकिन पोषक तत्वों को अपने आहार से बिलकुल अलग न करें। पौष्टिक आहार में प्रोटीन, कार्बस , वसा, विटामिन वाले खाद्य पदार्थ हैं, जो प्रेगनेंसी में इम्युनिटी को ताकत देते हैं।

गर्मियों में क्या पिएं (summer drinks)

  • पानी खूब पिएं। सर्दियों में 8 ग्लास गुनगुना पानी पीने की सलाह दी जाती है, लेकिन  गर्मियों में आप 12 ग्लास तक ठंडा पानी पी सकती हैं।
  • सर्दियों में फ्रूट जूस का अधिक सेवन नहीं करने की सलाह दी जाती है, लेकिन गर्मियों में ताज़े फलों का जूस भरपूर मात्रा में लें।
  • हर्बल टी से तनाव दूर होते हैं। मन को सुकून और आराम मिलता है। घर पर ही तुलसी, अदरक, लेमन ग्रास, कैमोमाइल जैसे हर्ब्स से हर्बल टी तैयार कर सकती हैं।
  • नारियल (tender coconut) का पानी पीना भी फायदेमंद है।
  • लस्सी (buttermilk) में थोड़ा सा नमक और जीरा पीस कर मिला लें। यह बहुत अच्छा नेचुरल ड्रिंक है।
garbhavatee mahilaen garmee ke mausam mein in 5 baaton ka avashy rakhen khyaal

(2) ढीले-ढाले कपड़े पहनें

गर्मियों में ढीले-ढाले और हल्के-फुल्के कपड़े पहनें। कॉटन के कपड़े इस लिहाज से सबसे बेहतर होते हैं।

 

garbhavatee mahilaen garmee ke mausam mein in 5 baaton ka avashy rakhen khyaal

(3)  तेज़ धूप से बचें

विटामिन डी और जिंक बहुत ज़रूरी हैं, इसलिए थोड़ी धूप बॉडी में ज़रूर लगने दें। सुबह की धूप बेहतर होती है, क्योंकि गर्मी के मौसम में  सूरज की तेज़ रौशनी से बचना चाहिए।

garbhavatee mahilaen garmee ke mausam mein in 5 baaton ka avashy rakhen khyaal

(4)  व्यायाम (exercise)

एक्सरसाइज़ ज़रूर करें। आपके लिए और शिशु के लिये यह बहुत फायदेमंद है। कसरत से आपके शरीर का तापमान सही रहता है और साथ ही ब्लड सर्कुलेशन सुचारू रहता है। हार्मोन भी बैलेंस रहते हैं। 

garbhavatee mahilaen garmee ke mausam mein in 5 baaton ka avashy rakhen khyaal

(5)  भरपूर नींद लें

प्रेगनेंसी में शरीर कई तरह के मानसिक, शारीरिक और भावनात्मक (physically, emotionally and physiologically) बदलावों से गुज़रता है। इसलिए भरपूर नींद लें, ताकि दिमाग को आराम मिले।

garbhavatee mahilaen garmee ke mausam mein in 5 baaton ka avashy rakhen khyaal

इन सारे तरीकों पर अमल करने से आपको स्वस्थ बच्चे का तोहफा तो मिलेगा ही साथ ही  डिलिवरी के बाद  किसी तरह की मुश्किलें शरीर और सेहत के साथ नहीं होंगी।

जननम कहे हां

  • हेल्दी डाइट
  • ढेर सारा पानी
  • लस्सी, नारियल

जननम कहे ना

  • तैलीय भोजन
  • तेज़ धूप
  • ज्यादा चटपटा, खट्टा

सारांश :  एक स्वस्थ बच्चे को जन्म देना सुनिश्चित करने के लिए गर्भवती महिलाओं को सबसे अधिक अपने आहार का ध्यान रखना चाहिए। बाजार में विभिन्न प्रकार के पेय उपलब्ध होने के बावजूद, यदि वे घर पर ही शीतल पेय और भोजन बनाती हैं, तो गर्भवती महिलाएँ स्वस्थ रहेंगी। इसके अलावा, हल्का-फुल्का व्यायाम करना, भरपूर नींद लेना, ढीले-ढाले कपड़े पहनना, तेज़ धूप से बचना आदि कुछ ऐसे उपाय हैं, जिनसे गर्मियों के मौसम में भी गर्भवती महिलाएं तरोताज़ा रह सकती हैं और उनके होने वाले बच्चे की सेहत अच्छी हो सकती है।

Summary: Pregnant women should take care of their diet most to ensure the birth of a healthy baby. Despite the availability of various types of drinks in the market, if they make soft drinks and food at home, then pregnant women will be healthy. Apart from this, doing moderate exercise, having a lot of sleep, wearing loose clothes, avoiding high sunlight, etc. are some of the ways that pregnant women can be refreshed during the summer and their child's health is good May be.

आज ही जननम फेसबुक कम्युनिटी को ज्वाइन करें जहां हमारे एक्सपर्ट्स प्रेगनेंसी के हर पहलू पर टिप्स दे रहे हैं - यहाँ क्लिक करें

जननम आपको सही, सटीक और उपयोगी जानकारी उपलब्ध कराने के लिए हमेशा आपके साथ हैं। लेकिन इसी के साथ आपको डॉक्टर से सलाह लेना भी ज़रूरी है।


Other articles related to this

शरीर के बाकी हिस्सों की तरह मुंह की सफ़ाई सबसे अहम होती है। ख़ासकर दांतों को स्वस्थ रखना और मसूड़ों ...

लगभग सभी महिलाओं की ये इच्छा होती है कि उनकी त्वचा किसी भी प्रकार के दाग-धब्बों से दूर रहें। गर्मियो...

महिलाओं को गर्भधारण के बाद जो सबसे पहली बात ध्यान में रखनी पड़ती है, वो है संतुलित, पोषक और नियमित आह...

कुछ समय पहले तक घर में होने वाली किसी भी खुशी को मनाने के लिए गुड़ से मुँह मीठा करने की प्रथा थी। यह...

गर्भावस्था में पौष्टिक खाद्य की महत्ता किसी से भी छुपी नहीं है। यह एक माँ और होने वाले शिशु के स्वस्...

गर्भ-काल जहां एक तरफ आने वाली खुशियों का खूबसूरत एहसास लाता है, वहीं महिलाओं के लिए विभिन्न प्रकार क...

Other articles related to this

शरीर के बाकी हिस्सों की तरह मुंह की सफ़ाई सबसे अहम होती है। ख़ासकर दांतों को स्वस्थ रखना और मसूड़ों की मज़बूती। गर्भावस्था के दौरान और बच्चे को जन्म देने के

लगभग सभी महिलाओं की ये इच्छा होती है कि उनकी त्वचा किसी भी प्रकार के दाग-धब्बों से दूर रहें। गर्मियों में अक्सर त्वचा पर सूरज की गर्मी के कारण कालापन आ जाता है जिसको टैनिंग भी कहते हैं। टैनिंग से निजात पाना बेहद मुश्किल

महिलाओं को गर्भधारण के बाद जो सबसे पहली बात ध्यान में रखनी पड़ती है, वो है संतुलित, पोषक और नियमित आहार। गर्भ के पहले तीन महीने शिशु के विकास की दृष्टि से सबसे अधिक महत्वपूर्ण होते हैं

कुछ समय पहले तक घर में होने वाली किसी भी खुशी को मनाने के लिए गुड़ से मुँह मीठा करने की प्रथा थी। यही गुड़ आज भी बहुत से घरों में खाने के बाद मुखवास के तौर पर खाया जाता है।

गर्भावस्था में पौष्टिक खाद्य की महत्ता किसी से भी छुपी नहीं है। यह एक माँ और होने वाले शिशु के स्वस्थ्य को सुनिश्चित करने का सबसे प्राकृतिक तरीका है। अनगिनत वर्षो से चली आ रही समृद्ध भारतीय विरासत में ऐसे कई

गर्भ-काल जहां एक तरफ आने वाली खुशियों का खूबसूरत एहसास लाता है, वहीं महिलाओं के लिए विभिन्न प्रकार के अनुभव और असुविधा भी ले आता है

जननम कम्युनिटी से जुड़ने के फायदे!

Join the #1 global parenting resource and start receiving the following helpful newsletter:

Join the community now!

Fill the following & enjoy perks!

Due Date or child's birthday