गर्भावस्था में चुकंदर की खिचड़ी खाने के फायदे

जननम से जानिये, गर्भावस्था में चुकंदर की खिचड़ी खाने के फायदे

गर्भावस्था की पहली तिमाही में कई तरह के पोषक तत्वों और पोषण से भरपूर भोजन को खाने की सलाह दी जाती है। ऐसे ही पोषक तत्वों से भरपूर है चुकंदर। इसे सलाद के साथ साथ जूस, सब्जी, हलवा समेत कई तरह से खाया जा सकता है। लेकिन चुकंदर की खिचड़ी की बात ही कुछ और है। दक्षिण भारत समेत कई राज्यों में इसे पारंपरिक तौर पर गर्भावस्था में बनाकर खाया जाता है। यह मां और गर्भ में पल रहे शिशु दोनों को ताकत देता है।

चुकंदर की खिचड़ी के फायदे benfits of beetroot khichdi

garbhaavastha mein chukandar kee khichadee khaane ke phaayade
  1. चुकंदर और इस खिचड़ी में पड़ने वाली अन्य सामग्री एनीमिया के जोखिम को कम करती है।
  2. इसमें आयरन की अच्छी मात्रा होती है जो हीमोग्लोबिन बढ़ाने में सहायक है।
  3. चुकंदर में एंटीऑक्सिडेंटस होते हैं जो प्रेगनेंसी में शरीर को अंदर से मजबूती देते हैं। रोग प्रतिरोधक क्षमता बढञाते हैं। इम्युनिटी बढ़ने से गर्भावस्था के दौरान संक्रमण से बचाव करते हैं।
  4. ऑस्टियोपोरोसिस के जोखिम को कम करता है
  5. गर्भवती महिलाओं को हड़िडयों के दर्द से बचाता है। हड्डियां मजबूत रहती इसमें कैल्शियम अच्छी मात्रा में होता है जो दांतों को सड़न से बचाता है।
  6. चुकंदर की खिचड़ी में पोटेशियम होता है, इससे अपच और गैस की परेशानी नहीं होती।

7. चुकंदर में मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी एजेंट सूजन को रोकने में सहायक है। यह जोड़ों में दर्द और सूजन से बचाता है।

8. ब्ल्ड शुगर को कंट्रोल करता है।

9. इसमें फोलिक एसिड होता है जो गर्भ में पल रहे बच्चे के विकास के लिये अच्छा है।

10. चुकंदर में मौजूद बेटासिनिन नाम का तत्व लिवर और खून को साफ करता है। विषैले पदार्थों को बाहर निकालने में मददगार है।

सामग्री Ingredients

  • चुकंदर – 1 बड़ा और कसा हुआ
  • पानी - 2 कप
  • कसा हुआ नारियल - 1/2 कप
  • प्याज - 4, छिलका
  • हरी मिर्च - 2 - 3
  • दही - 4 बड़े चम्मच
  • नारियल तेल - 1 बड़ा चम्मच।
  • करी पत्ते - 7 या 8
  • काली सरसों के बीज - 1/2 चम्मच
garbhaavastha mein chukandar kee khichadee khaane ke phaayade

चुकंदर की खिचड़ी बनाने का तरीका

नमक के साथ कसे हुए चुकंदर को पानी में पकाएं। तब तक पकाएं जब तक कि सारा पानी सूख न जाये। अब बाकी की सामग्री को मिक्सी में बारीक पेस्ट बना लें। नारियल को अच्छी तरह से पेस्ट बन जाने दें। अब इसमें दही मिलाएं।

धीमी आंच पर कुछ मिनट के लिए इसे पकने दें। तड़का लगाने के लिए तेल गरम करें। सबसे पहले इसमें सरसों के दाने डालें। जब वे फूट जाएं, तो करी पत्ते डालें और इसके बाद चुकंदर के पेस्ट और बाकी मिश्रण को मिलाएं। इसे गैस पर से उतार ले। थोड़ी ठंडा होने दें और फिर थाली में परोस दें।

सारांश : गर्भावस्था के दौरान चुकंदर की खिचड़ी का सेवन एनीमिया के खतरे को कम करता है, यह रक्त में हीमोग्लोबिन की गिनती को भी बढ़ाता है। चुकंदर मिनारल्स से भरपूर होते हैं। इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो वास्तव में प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाने में सहायक होते हैं।

Summary: During pregnancy, the consumption of beet sugar can reduce the risk of anemia, it also increases the number of hemoglobin in the blood. Beetroot is rich in mineralos. It has antioxidant properties that are actually helpful in boosting the immune system.

यह भी पढ़ें : -

यह भी देखें : -

 


Other articles related to this

महिलाओं को गर्भधारण के बाद जो सबसे पहली बात ध्यान में रखनी पड़ती है, वो है संतुलित, पोषक और नियमित आह...

कुछ समय पहले तक घर में होने वाली किसी भी खुशी को मनाने के लिए गुड़ से मुँह मीठा करने की प्रथा थी। यह...

गर्भावस्था में पौष्टिक खाद्य की महत्ता किसी से भी छुपी नहीं है। यह एक माँ और होने वाले शिशु के स्वस्...

खाने के साथ चाय या कॉफ़ी या चाय/कॉफ़ी के साथ आयरन सप्लीमेंट न लें क्योंकि चाय/कॉफ़ी में टैनिन्स मौजूद ह...

गर्भावस्था में बवासीर के लक्षण व घरेलू उपाय, बचाव और उपचार । बवासीर एक ऐसी परेशानी है जिससे प्रभावित...

गर्भावस्था के दौरान संतुलित आहार ही एक नन्हीं जिंदगी को स्वस्थ जीवन दे सकता है। लेकिन ये भी सच है कि...

Other articles related to this

महिलाओं को गर्भधारण के बाद जो सबसे पहली बात ध्यान में रखनी पड़ती है, वो है संतुलित, पोषक और नियमित आहार। गर्भ के पहले तीन महीने शिशु के विकास की दृष्टि से सबसे अधिक महत्वपूर्ण होते हैं

कुछ समय पहले तक घर में होने वाली किसी भी खुशी को मनाने के लिए गुड़ से मुँह मीठा करने की प्रथा थी। यही गुड़ आज भी बहुत से घरों में खाने के बाद मुखवास के तौर पर खाया जाता है।

गर्भावस्था में पौष्टिक खाद्य की महत्ता किसी से भी छुपी नहीं है। यह एक माँ और होने वाले शिशु के स्वस्थ्य को सुनिश्चित करने का सबसे प्राकृतिक तरीका है। अनगिनत वर्षो से चली आ रही समृद्ध भारतीय विरासत में ऐसे कई

खाने के साथ चाय या कॉफ़ी या चाय/कॉफ़ी के साथ आयरन सप्लीमेंट न लें क्योंकि चाय/कॉफ़ी में टैनिन्स मौजूद होते हैं जिनकी वजह से बॉडी आयरन अब्सॉर्ब नहीं कर पाता।

गर्भावस्था में बवासीर के लक्षण व घरेलू उपाय, बचाव और उपचार । बवासीर एक ऐसी परेशानी है जिससे प्रभावित व्यक्ति का उठना-बैठना बहुत तकलीफ़देह हो जाता है। यह परेशानी अगर गर्भवती महिला को होती है तब तो उसकी

गर्भावस्था के दौरान संतुलित आहार ही एक नन्हीं जिंदगी को स्वस्थ जीवन दे सकता है। लेकिन ये भी सच है कि गर्भावस्था के दौरान महिला के शरीर में कई बदलाव होते हैं ऐसे में कभी कुछ खाने की इच्छा होती है तो कभी भूख

जननम कम्युनिटी से जुड़ने के फायदे!

Join the #1 global parenting resource and start receiving the following helpful newsletter:

Join the community now!

Fill the following & enjoy perks!

Due Date or child's birthday