गर्भावस्था के दौरान किये जा सकने वाले योग मुद्राएं

योग गर्भावस्था में किया जाने वाला एक अहम व्यायाम है, जो गर्भवती माँ और उसके बच्चे के शारीरिक व मन-मस्तिष्क को स्वस्थ रखने में मदद करता है। चूंकि यह शरीर को खिंचाव और ताकत दोनों एक साथ देता है, इसको करने की सलाह जननम हर एक गर्भवती महिला को देता है। किन्तु हर गर्भावस्था अलग होती है इसलिए, स्वस्थ गर्भावस्था में भी योग अपनाने से पहले अपने डॉक्टर की गए ज़रूर ले लें।

जननम से जानिये : कौन सी योग मुद्राएं गर्भावस्था में लाभकारी हैं?

प्राणायाम

garbhaavastha ke dauraan kiye ja sakane vaale yog mudraen

गर्भावस्था में आप अपने चित्त को शांत और शरीर को तंदुरुस्त रखने के लिए दो प्रकार के प्राणायाम को कर सकती हैं - एक है उज्जायी अर्थात लंबी, तेजस्वी और गहरी सांस लेना और दूसरा है - नाड़ी शोधन। जहां उज्जयी से आप अपने चित्त को शांत रख सकती हैं, वहीं नाड़ी शोधन उसके शरीर में ऊर्जा का सही प्रकार से प्रवाह करने में मदद करता है।

मरजारी आसन

यह योग मुद्रा गर्भवस्था के पहले तिमाही में किया जाने वाला एक अत्यत लाभकारी योगासन है जिससे एक महिला की रीढ़ की हड्डी मजबूत बनती है और शरीर की कठोरता कम होती है। इसे करने के लिए पहले हाथों और घुटनों के बल आ जाएँ। अब अपनी ठोड़ी को सीधा करें और सर को ऊपर की ओर ले जाकर सामने देखें। अंत में, रीढ़ की हड्डियों को ऊपर उठाएं, नाभि और कूल्हों को अंदर खींचें। इस अवस्था में रहते हुए कुछ गहरी सांसें लें और फिर सामान्य अवस्था में आ जाएँ।

garbhaavastha ke dauraan kiye ja sakane vaale yog mudraen
garbhaavastha ke dauraan kiye ja sakane vaale yog mudraen

यह आपके कमर के निचले हिस्से में लोच पैदा करके आपको दर्द में राहत दिलाता है। यह आसन बहुत ही सरल है। आलथी-पालथी मारकर बैठें, आखें बंद कर लें, हथेलियों को जाँघों पर रखें और पूरी-पूरी सांसें लें।

ताड़ासन 

इस योगासन को आप गर्भावस्था के दूसरे तिमाही में करके अपने मेरुदंड में फैलाव ला सकती है। इसके साथ ही यह आपको मानसिक एवं 

शारीरिक संतुलन बिठाने में मदद करता है। यह आसान करने के लिए सीधे खड़े हो जाएँ, हाथ ऊपर करें और हथेलियों को आपस में पकड़ लें। अब पंजों के बल खड़े हो जाएँ। इसके साथ-साथ पूरी साँसें लें और कुछ क्षणों में सामान्य अवस्था में आ जाएँ।

योग के फायदे तो सिर्फ भारत ही नहीं, पूरी दुनिया में पहचाने जा रहे हैं। सही योग गर्भावस्था के दौरान आने वाली छोटी-बड़ी तकलीफों से आपको आराम देने में मदद कर सकता है। जननम की सलाह है की योगासन आप किसी माहिर की देखरेख में करें तोह बेहतर है, और कोई भी योग आसन करते समय अपनी मुद्रा का ख़ास ख्याल रखना चाहिए, तभी आपको इनसे फ़ायदा होगा।

garbhaavastha ke dauraan kiye ja sakane vaale yog mudraen

सारांश: योग दुनिया भर में अपनी शारीरिक और मानसिक चिकित्सा शक्ति के लिए जाना जाता है। गर्भावस्था के दौरान बरती जाने वाली सही स्वास्थ्य सावधानियों के साथ योग आपको और आपके बच्चे को स्वस्थ और दर्द मुक्त रखने में सहायता कर सकता है।

Summary : Yoga is known for its physical and mental healing power the world over. With the right health precautions taken during pregnancy, yoga can go a long way in keeping you and your child healthy and pain-free.

यह भी पढ़ें : -

आज ही जननम फेसबुक कम्युनिटी को ज्वाइन करें जहां हमारे एक्सपर्ट्स प्रेगनेंसी के हर पहलू पर टिप्स दे रहे हैं -यहाँ क्लिक करें

जननम आपको सही, सटीक और उपयोगी जानकारी उपलब्ध कराने के लिए हमेशा आपके साथ हैं। लेकिन इसी के साथ आपको डॉक्टर से सलाह लेना भी ज़रूरी है।

 


Other articles related to this

प्राणायाम हर किसी के लिये ज़रूरी है। गर्भवती महिलाओं और नयी माताओं के लिए यह इसलिए अहम हो जाता है, क...

गर्भावस्था में हल्के-फुल्के व्यायाम शरीर को लचीला बनाने में मदद करते हैं। प्रेगनेंसी के दौरान आप ...

गर्भावस्था एक अनमोल समय होता है। यह नौ महीनों का समय आपके लिए अत्यंत मूल्यवान होता है। ऐसे मे आपको अ...

गर्भावस्था में बवासीर के लक्षण व घरेलू उपाय, बचाव और उपचार । बवासीर एक ऐसी परेशानी है जिससे प्रभावित...

गर्भावस्था किसी भी महिला के जीवन में परिवर्तन का समय होता है। इस दौरान, महिलाओं के शरीर में कई हार्म...

मां बनना हर महिला के लिए ख़ुशी का पर्याय होता है, लेकिन गर्भावस्था के दौरान या बाद में बहुत-सी शारीर...

Other articles related to this

प्राणायाम हर किसी के लिये ज़रूरी है। गर्भवती महिलाओं और नयी माताओं के लिए यह इसलिए अहम हो जाता है, क्योंकि इससे जहां तनाव निकल जाता है और शरीर

गर्भावस्था में हल्के-फुल्के व्यायाम शरीर को लचीला बनाने में मदद करते हैं। प्रेगनेंसी के दौरान आप स्वस्थ रहें और आपका बच्चा भी सुरक्षित इस दुनिया में

गर्भावस्था एक अनमोल समय होता है। यह नौ महीनों का समय आपके लिए अत्यंत मूल्यवान होता है। ऐसे मे आपको अपना एक सीमित वजन भी बढ़ाना होता है जो आपके लिए तो ज़रुरी है

गर्भावस्था में बवासीर के लक्षण व घरेलू उपाय, बचाव और उपचार । बवासीर एक ऐसी परेशानी है जिससे प्रभावित व्यक्ति का उठना-बैठना बहुत तकलीफ़देह हो जाता है। यह परेशानी अगर गर्भवती महिला को होती है तब तो उसकी

गर्भावस्था किसी भी महिला के जीवन में परिवर्तन का समय होता है। इस दौरान, महिलाओं के शरीर में कई हार्मोनल परिवर्तन होते हैं, जो उनकी त्वचा और बालों की गुणवत्ता और बनावट को प्रभावित करते हैं।

मां बनना हर महिला के लिए ख़ुशी का पर्याय होता है, लेकिन गर्भावस्था के दौरान या बाद में बहुत-सी शारीरिक परेशानियां भी होती हैं। उनमें से एक दांतों और मसूड़ों की समस्याएं हैं। इन सभी समस्याओं की एक ख़ास वजह शरीर में आने वाले

जननम कम्युनिटी से जुड़ने के फायदे!

Join the #1 global parenting resource and start receiving the following helpful newsletter:

Join the community now!

Fill the following & enjoy perks!

Due Date or child's birthday