भारतीय विरासत का तोहफा - नारायण शीरा

गर्भावस्था में पौष्टिक खाद्य की महत्ता किसी से भी छुपी नहीं है। यह एक माँ और होने वाले शिशु के स्वस्थ्य को सुनिश्चित करने का सबसे प्राकृतिक तरीका है। अनगिनत वर्षो से चली आ रही समृद्ध भारतीय विरासत में ऐसे कई नुस्खे हैं, जो बनाने में सरल, खाने में स्वादिष्ट और पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं। ऐसी ही एक नुस्खा है- नारायण शीरा।

जननम से जानिये : नारायण शीरा के लाभ

नारायण शीरा को बनाने में उपयोग में आने वाली साम्रग्री एक गर्भवती महिला को उचित पोषण प्रदान करती है,

जैसे:

दूध - गर्भावस्था में दूध एक माँ और उसके होने वाले शिशु के लिए आवश्यक कैल्शियम प्रदान करता है।

घी - यह गर्भावस्था में होने वाले कब्ज में आराम दिलाता है। इसके साथ ही घी शिशु के दिमाग के उचित विकास को सुनिश्चित करता है।

किशमिश - पानी में भीगे हुए किशमिस खाने से आपको पाचन क्रिया में सहायता मिलती है और इसके साथ की यह रक्त कोशिकाओं के निर्माण को बढ़ावा देता है।

केला - केले में मैग्नीशियम की अच्छी मात्रा होती है और ऊर्जा का भी एक अच्छा स्त्रोत है। यदि आपको इससे एलर्जी नहीं है, तो इसे नारायण शीरा में जरूर मिलाएं। यह माँ और शिशु दोनों के लिए फायदेमंद रहता है।

तो आइये जाने की नारायण शीरा बनाया कैसे जाता हैं।

आवश्यक सामग्री

  •  1 ¼ कप सूजी
  •  1 ¼ कप दूध
  •  1 ¼ कप घी
  •  2 बड़ा चम्मच किशमिश, 2 घंटे के लिए पानी में भिगोया
  •  ½ छोटा चम्मच इलायची पाउडर
  •  5 बड़े कटे हुए केले
  •  1 ¼ कप चीनी

बनाने की विधि

  • नारायण शीरा बनाने के लिए आप सबसे पहले एक कड़ाई में घी डाल कर उसे गरम करें और फिर उसमे सूजी डाल कर उसको हल्का भूरा होने तक भूने।
  • जब सूजी में से भुनने की ख़ुशबू आने लगे तो उसमे दूध डाले और उसको अच्छी तरह से मिलाये। इसको लगभग  5-10 मिनट तक दूध में उबाल आने तक पकाये।
  • अब इसमें कटे हुए केले, चीनी और किशमिश डाले। आखिर में इलायची पाउडर डाले।

महत्वपूर्ण टिप्स - अगर आप गर्भावस्था के मधुमेह से पीड़ित है तो आप चीनी की जगह शहद का उपयोग कर सकती हैं।

Summary : Narayan Sheera - a heritage recipe of India -  has the right blend of taste and nutrition. The ingredients include milk, ghee, raisin, and banana, which are good for both, the mother and the baby.

सारांश: नारायण शीरा - भारत की विरासत का एक नुस्खा है जिसमें स्वाद और पोषण का सही मिश्रण है। सामग्री में दूध, घी, किशमिश, और केला शामिल हैं, जो माँ और बच्चे दोनों के लिए अच्छे हैं।

यह भी पढ़ें :-

आज ही जननम फेसबुक कम्युनिटी को ज्वाइन करें जहा हमारे एक्सपर्ट्स प्रेगनेंसी के हर पहलु पर टिप्स दे रहे है - यहाँ क्लिक करें

जननम आपको सही, सटीक और उपयोगी जानकारी उपलब्ध कराने के लिए हमेशा आपके साथ हैं। लेकिन इसी के साथ आपको डॉक्टर से सलाह लेना भी ज़रूरी है।


Other articles related to this

महिलाओं को गर्भधारण के बाद जो सबसे पहली बात ध्यान में रखनी पड़ती है, वो है संतुलित, पोषक और नियमित आह...

कुछ समय पहले तक घर में होने वाली किसी भी खुशी को मनाने के लिए गुड़ से मुँह मीठा करने की प्रथा थी। यह...

गर्भावस्था के नौ महीने काफी अहम होते हैं। इस दौरान आपको हर दिन अतिरिक्त कैलोरी के साथ ही साथ ज्यादा ...

बच्चा परिवार में असीमित खुशियाँ लेकर आता है। ऐसे में अगर आपको जुड़वा बच्चे होने होने की खबर मिले तो ...

गर्भ-काल जहां एक तरफ आने वाली खुशियों का खूबसूरत एहसास लाता है, वहीं महिलाओं के लिए विभिन्न प्रकार क...

गर्भावस्था में अपना ख्याल बहुत अच्छी तरह से रखने की ज़रूरत होती है, क्योंकि अगर आप स्वस्थ हैं तो गर्...

Other articles related to this

महिलाओं को गर्भधारण के बाद जो सबसे पहली बात ध्यान में रखनी पड़ती है, वो है संतुलित, पोषक और नियमित आहार। गर्भ के पहले तीन महीने शिशु के विकास की दृष्टि से सबसे अधिक महत्वपूर्ण होते हैं

कुछ समय पहले तक घर में होने वाली किसी भी खुशी को मनाने के लिए गुड़ से मुँह मीठा करने की प्रथा थी। यही गुड़ आज भी बहुत से घरों में खाने के बाद मुखवास के तौर पर खाया जाता है।

गर्भावस्था के नौ महीने काफी अहम होते हैं। इस दौरान आपको हर दिन अतिरिक्त कैलोरी के साथ ही साथ ज्यादा पोषक तत्वों की ज़रूरत होती है। ऐसे में महिलाएं हमेशा पसोपेश में रहती हैं कि वो क्या खाएं और क्या ना खाएं? तो हम आपको बताते हैं

बच्चा परिवार में असीमित खुशियाँ लेकर आता है। ऐसे में अगर आपको जुड़वा बच्चे होने होने की खबर मिले तो खुशियाँ ओर उत्साह दोगुनी ही हो जाती है!

गर्भ-काल जहां एक तरफ आने वाली खुशियों का खूबसूरत एहसास लाता है, वहीं महिलाओं के लिए विभिन्न प्रकार के अनुभव और असुविधा भी ले आता है

गर्भावस्था में अपना ख्याल बहुत अच्छी तरह से रखने की ज़रूरत होती है, क्योंकि अगर आप स्वस्थ हैं तो गर्भ में पल रहा शिशु भी सेहतमंद होता है। ऐसे में आपकी इम्युनिटी सीधे तौर पर शिशु से जुड़ी होती है। इसलिये मां जो

जननम कम्युनिटी से जुड़ने के फायदे!

Join the #1 global parenting resource and start receiving the following helpful newsletter:

Join the community now!

Fill the following & enjoy perks!

Due Date or child's birthday