अधिकतम गर्भपात 12 हफ्ते से पहले क्यूँ होते है?

जल्दी गर्भपात के कारण जहां एक महिला का गर्भधारण अनेक खुशियों के द्वार खोल देता है वहीं दूसरी ओर गर्भपात इन्हीं खुशियों पर कुठाराघात कर देता है। किसी कारण से गर्भ का नष्ट हो जाना गर्भपात कहलाता है और अगर यह 12 हफ्तों के अंदर ही होता है तो इसे प्रारंभिक गर्भपात कहा जाता है। सबसे अधिक हैरान करने वाली बात यह है कि अधिकतम गर्भपात 12 हफ्ते से पहले की अवधि में हो जाते हैं। ऐसा क्यूँ होता है, इस प्रश्न का उत्तर ढूँढने में जननम आपकी मदद करते हैं । जानिए तीसरे महीने में गर्भपात के लक्षण ।

जननम से जानिए : अधिकतम गर्भपात 12 हफ्ते से पहले क्यूँ होते है? व प्रारंभिक गर्भपात के क्या कारण हैं 

जब गर्भावस्था की पहली तिमाही यानि 12 हफ्ते पूरे होने से पहले गर्भ का भ्रूण नष्ट हो जाता है तब यह स्थिति प्रारंभिक गर्भपात की कहलाती है। ऐसा आमतौर पर निम्न कारणों से हो सकता है:

1. गर्भवती की आयु :

चिकित्सा की दृष्टि से अगर गर्भवती की आयु 30 वर्ष से अधिक है तो प्रारंभिक गर्भपात की संभावना बन जाती है। यह संभावना तब और अधिक होती है जब गर्भवती की आयु 40 वर्ष से अधिक हो।

2. माँ का स्वास्थय:

अगर गर्भवती माँ को इनमें से कोई शिकायत हो तब भी प्रारंभिक गर्भपात की संभावना बनती है :

adhikatam garbhapaat 12 haphte se pahale kyoon hote hai

1)   बढ़ी हुई मधुमेह,

2) विभिन्न प्रकार के इन्फेक्षन जैसे रूबेला, एच आई वी, मलेरिया, लिस्टेरिया, क्लेमेडिया आदि

3)   हार्मोनल लेवल ठीक न होना,

4)   जन्मजात हृदय बीमारी

5)  थायरॉइड

3. जीवनशैली:

गर्भवती का प्रेग्नेंसी में धूम्रपान, मदिरापान और अत्यधिक तनाव के साथ जीवन जीने से भी प्रारंभिक गर्भपात की संभावना होती है।

4. पहले हुआ गर्भपात:

अगर किसी कारण से पहले भी गर्भपात हुआ हो तब दूसरी बार 12 हफ्तों से पहले गर्भपात की संभावना अधिक होती है।

5. आरएच फैक्टर:

अगर पति-पत्नी के ब्लड का आरएच फैक्टर मैच नहीं करता है तब बच्चे में या तो जन्मजात विकृति या फिर प्रारम्भिक गर्भपात की स्थिति अधिक होती है। महिला का नैगेटिव और पुरुष का आरएच पॉज़िटिव होने पर यही स्थिति होती है।

6. दोषपूर्ण बच्चेदानी:

अगर किसी कारण से महिला के बच्चेदानी में दोष हो तब भी भ्रूण का विकास ठीक नहीं होता है और प्रारंभिक गर्भपात की संभावना हो जाती है। अधिकतर ऐसा गर्भवती को अत्यधिक तनाव का सामना करने से होता है।

7. अस्थानिक प्रेग्नेंसी:

अगर भ्रूण बच्चेदानी के बाहर स्थित हो जाता है तब थोड़े ही समय में गर्भपात हो जाता है।

जननम कहे हाँ:

1.     गर्भधारण से पहले का टिकाकरण पूरा

2.    पौष्टिक भोजन

 

adhikatam garbhapaat 12 haphte se pahale kyoon hote hai

3.    स्वस्थ जीवन शैली

4.    गर्भधारण से पहले रक्त की पूरी जांच

5.    आरएच फैक्टर की जांच

जननम कहे ना:

1.    पेट पर चोट

2.    प्रेग्नेंसी से पहले टीकाकरण में कोताही

3.    मदिरापान और धूम्रपान व ड्रग्स का सेवन

4.    तनाव

5.    अधिक आयु में गर्भधारण

गर्भ धारण के बाद यदि किसी प्रकार की कोई परेशानी पता लगता है तो गर्भवती को तुरंत डॉक्टर की सलाह लेकर उसका पूरी तरह से पालन करना चाहिए। अगर भ्रूण गलत जगह स्थित हो गया है तब उसका चिकित्सीय इलाज तुरंत शुरू कर देना चाहिए।

सारांश : अधिकांश गर्भावस्था के डॉक्टरों को लगता है कि अधिकांश शुरुआती गर्भपात गुणसूत्र दोष के कारण होते हैं। लेकिन व्यवहारिक रूूप में प्रारंभिक गर्भपात के कई अन्य कारण हो सकते हैं।

Summary: Most of the pregnancy doctors feel that most of the early abortions are due to chromosomal defects. But in practice, there are many other reasons for the early miscarriage.

आज ही जननम फेसबुक कम्युनिटी को ज्वाइन करें जहां हमारे एक्सपर्ट्स प्रेगनेंसी के हर पहलू पर टिप्स दे रहे हैं -यहाँ क्लिक करें

जननम आपको सही, सटीक और उपयोगी जानकारी उपलब्ध कराने के लिए हमेशा आपके साथ हैं। लेकिन इसी के साथ आपको डॉक्टर से सलाह लेना भी ज़रूरी है।

 


Other articles related to this

गर्भावस्था जहाँ एक ओर अपने साथ कई खुशियाँ लेकर आती हैं, वहीं कई चिंताएं भी लेकर आती हैं। नए बच्चे के...

अगर आप पहली बार गर्भवती हैं तो यह एक नया अनुभव होगा और आपके मन में कई अलग-अलग सवाल उमड़ रहे होंगे। ज...

गर्भ-काल जहां एक तरफ आने वाली खुशियों का खूबसूरत एहसास लाता है, वहीं महिलाओं के लिए विभिन्न प्रकार क...

अगर आप एक स्वस्थ गर्भावस्था का आश्वासन चाहती हैं तो गर्भावस्था में होने वाली देखभाल में सही टीकाकरण ...

हर महिला के लिए प्रेगनेंसी के शुरूआती सिम्प्टम अलग-अलग होते हैं। ज़्यादातर महिलाओं के लिए, यह वह महिन...

जैसे-जैसे अलग होने वाले सेल के गोले किसी इंसानी शरीर का रूप ले रहे हैं, आपका बच्चा ब्लास्टोसिस्ट से ...

Other articles related to this

गर्भावस्था जहाँ एक ओर अपने साथ कई खुशियाँ लेकर आती हैं, वहीं कई चिंताएं भी लेकर आती हैं। नए बच्चे के स्वागत के लिए मानसिक और शरीरिक रूप से तैयार होना जितना आवश्यक है, वित्तीय रूप से तैयार होना भी उतना ही आवश्यक है।

अगर आप पहली बार गर्भवती हैं तो यह एक नया अनुभव होगा और आपके मन में कई अलग-अलग सवाल उमड़ रहे होंगे। जहां कई छोटे-मोटे सवालों के जवाब आपको अपनी सास, माँ या अन्य कोई क़रीबी, अनुभवी महिला से मिल सकते हैं

गर्भ-काल जहां एक तरफ आने वाली खुशियों का खूबसूरत एहसास लाता है, वहीं महिलाओं के लिए विभिन्न प्रकार के अनुभव और असुविधा भी ले आता है

अगर आप एक स्वस्थ गर्भावस्था का आश्वासन चाहती हैं तो गर्भावस्था में होने वाली देखभाल में सही टीकाकरण भी शामिल करें। यह आपको गर्भावस्था के दौरान कई प्रकार के संक्रमणों से प्रतिरक्षा प्रदान करके गर्भ के अंदर पल रहे शिशु की अच्छी सेहत और उचित विकास को सुनिश्चित करता है।

हर महिला के लिए प्रेगनेंसी के शुरूआती सिम्प्टम अलग-अलग होते हैं। ज़्यादातर महिलाओं के लिए, यह वह महिना होता है जब आपको पता चलता है कि आप प्रेग्नेंट हैं। इस महीने आपको प्रेगनेंसी के शायद सिर्फ़ दो ही सिम्प्टम दिखेंगे -- पॉज़िटिव प्रेगनेंसी टेस्ट (और पीरियड मिस करना)।

जैसे-जैसे अलग होने वाले सेल के गोले किसी इंसानी शरीर का रूप ले रहे हैं, आपका बच्चा ब्लास्टोसिस्ट से ज़ाइगोट में बदल रहा है। उसी प्रकार, जैसे-जैसे आपका शरीर और दिमाग आपके माँ बनने की नई भूमिका को अपना रहे हैं, वैसे-वैसे आपको भी बदलाव महसूस हो रहे होंगे।

जननम कम्युनिटी से जुड़ने के फायदे!

Join the #1 global parenting resource and start receiving the following helpful newsletter:

Join the community now!

Fill the following & enjoy perks!

Due Date or child's birthday