घी चावल पहले ट्राइमेस्टर के लिए

  घी चावल पहले ट्राइमेस्टर के लिए

प्रोटीन, फैट और कार्बोहाइड्रेट से भरपूर चावल को जब गाय के शद्ध देसी गी के साथ मिलाकर खाया जाता है तो इसकी गुणवत्ता और लाभ दोनों ही दोगुने हो जाते हैं। घी चावल बनाने के दौरान इसमें डाले जाने वाले मसाले, चावल और घी भी विटामिन, ए, डी, ई और के समेत कई पोषक तत्वों के अच्छे स्रोत होते हैं। घी चावल को खासकर दक्षिण भारत में पारंपरिक भोजन में शामिल रखा जाता है। गर्भावस्था के दौरान इन्हें मां और गर्भ में पल रहे शिशु दोनों के लिये उत्तम माना जाता है। इन्हें दो तरह से बनाया जाता है। कहीं कोकोनट मिल्क के साथ घी चावल बनता है तो कहीं अन्य मसालों के साथ इन्हें बनाकर खाया जाता है। चावल का जीआई (ग्लाइसेमिक इंडेक्स ) ज्यादा नहीं होता इसलिये जब इसे घी के साथ खाया जाता है तो इस जीआई को और कम किया जा सकता है। क्योंकि घी मेटाबॉलिज्‍म बढ़ाने के साथ बैड कोलेस्‍ट्रॉल को कम करने में मदद करता है।



घी के फायदे

घी मक्खन से बना 100% शुद्ध और पोषक तत्वों से भरपूर खाद्य पदार्थहै। घी के अपने गुण हैं और चावल के अलग गुण लेकिन जब इन्हें मिलाकर एक खास रेसिपी तैयार होती है तो इसका स्वाद और सेहत के लिये फायदे दोनों बढ़ जाते हैं।

घी में लैक्टोज और कैसिइन नहीं होते। गर्भावस्था में इसे खाने से दिल के रोगों को खतरा नहीं रहता।

घी अनसैचुरेटिंड फैट से भरपूर है और कोलेस्ट्रोल का अच्छा स्रोत है।

घी विटामिन-के और ब्यूटिरिक एसिड का स्रोत है।

गाय का घी अच्छी मेमोरी और ब्रेनपॉवर बढ़ाने में फायदेमंद होता है, माँ के गर्भ में पल रहे बच्चे की इम्युनिटी मजबूत करने के साथ –साथ उनके स्वास्थ्य के लिए विशेष रूप से फायदेमंद है।

त्वचा को मॉइस्चराइज़ करने का काम करता है। इससे त्वचा की चमक बढ़ती है। घी राइस में डलने वाले करी पत्ता, तेज पत्ता एंटीऑक्सिडेंट, विटामिन और खनिजों से भरपूर होते हैं। इससे त्वचा और बाल दोनों सेहतमंद रहते हैं।

चावल के फायदे

 

  • कैंसर की कोशिकाओं को रोकता है।
  • शुगर के रोगियों के लिए बासमती चावल उपयुक्त माने जाते हैं।
  • ब्राउन राइस या बासमती राइस फाइबर से भरपूर होते हैं, इन्हें खाने से कब्ज़, बवासीर जैसी समस्याएं कम होती हैं।
  • राइस कोलेस्ट्रोल को नियंत्रित कर हृदय रोग के जोखिम को कम करता है।
  • चावल में कई गुणकारी तत्व एमिनो एसिड, विटामिन और फाइटोन्यूट्रिएंट पाये जाते हैं।

 

घी चावल बनाने की सामग्री

 घी चावल पहले ट्राइमेस्टर के लिए

  • बासमती चावल : 2 कप
  • घी : 3 चम्मच
  • एक प्याज कटा हुआ
  • 3 कप पानी
  • 14 काजू
  • 14 किशिमिश
  • 2 हरी मिर्च
  • नमक स्वादानुसार
  • 2 इंच का टुकड़ा दालचीनी
  • 6 लौंग
  • 6 हरी इलायची
  • एक जावित्री ( कसा हुआ)
  • एक चकरी फूल
  • एक तेजपत्ता
  • करी पत्ता -7-8


घी चावल बनाने की विधि


  • चावल को भिगों दें और इसे 30 मिनट के लिये पानी में डुबोकर रखें। अब इन्हें सूखने के लिये अलग कर रख दें।
  • तब तक प्याज और मिर्च काटकर रखे दें।
  • एक पैन में घी गर्म करें। अब इसमें काजू डालकर भून दें। किशमिश को भी इसमें डालकर तब तक फ्राय करें जब तक यह फूल न जायें,अब इन्हें अलग प्लेट में निकालकर रख दें।
  • अब इसी पैन में बचे हुए घी में प्याज डालकर भूनें। थोड़ा और घी इसमें डाल सकते हैं । प्याज को ब्राउन होने तक भूनें। अगर आप चाहें तो इस स्टेप को स्किप भी कर सकती हैं। इन कटे हुए प्याज को बाद में गार्निशिंग के लिये इस्तेमाल किया जा सकता है।



 घी चावल पहले ट्राइमेस्टर के लिए

  • अब बाकी की सामग्री इस पैन में डालकर उन्हें 2 मिनट तक भूनें।
  • अब साफ कर सुखाए हुए चावल को इसमें डालें। इसी सामग्री में चावल को 3-4 मिनट फ्राय होने दें। इस बीच हिलाते रहें ताकी यह जलने न लगें।
  • अब इसमें पानी डाल दें। पानी की मात्रा थोड़ी कम ज्यादा की जा सकती है। इन चावलों को अब एक कुकर में डाल दें। एक सीटी आने तक पकने दें।
  • जब कुकर से भाप निकल जाये तो चावलों को कुकर से निकालकर एक बाउल में डालें।
  • अब इसे किशमिश काजू , किशमिश, स्प्रिंग ऑनियन ( हरी प्याज) और हरी धनिया डालकर गार्निश करें और सर्व करे खुद भी हर दिन खाएं। क्योंकि इसमें मौजूद यह सारी सामग्री पहली तिमाही के लिये सभी पोषण तत्वों से भरपूर है।

सारांश : घी चावल उच्च फाइबर से समृद्ध हैं। चावल कार्बोहाइड्रेट का अच्छा स्रोत है और घी अच्छी याददाश्त और दिमागी ताकत बढ़ाने में फायदेमंद है। घी में एंटीमाइक्रोबियल गुण होते हैं और यह दिल के लिए फायदेमंद है। होने वाली माँ के लिये घी चावल अच्छा पाचन को बढ़ावा देने वाला आहार है।

Summary: Ghee rice is rich in high fiber. Rice is a good source of carbohydrate and ghee is beneficial in enhancing good memory and brain power. Ghee contains antimicrobial properties and it is beneficial for the heart. Ghee rice is a diet promoting good digestion for the mother.

यह भी पढ़ें :-

यह भी देखें : -

आज ही जननम फेसबुक कम्युनिटी को ज्वाइन करें जहां हमारे एक्सपर्ट्स प्रेगनेंसी के हर पहलू पर टिप्स दे रहे हैं -यहाँ क्लिक करें

जननम आपको सही, सटीक और उपयोगी जानकारी उपलब्ध कराने के लिए हमेशा आपके साथ हैं। लेकिन इसी के साथ आपको डॉक्टर से सलाह लेना भी ज़रूरी है।


Other articles related to this

गर्भावस्था के दौरान संतुलित आहार ही एक नन्हीं जिंदगी को स्वस्थ जीवन दे सकता है। लेकिन ये भी सच है कि...

गर्भावस्था के दौरान किसी भी रूप में नारियल और मिश्री का सेवन करना काफी लाभकारी होता है। इनमें कई विट...

गर्भवती स्त्री को पूरे गर्भकाल में भोजन संबंधी पसंद और पोषण के बीच में संतुलन बैठाना सबसे कठिन काम ल...

गर्भावस्था के दौरान, कई महिलाएं अधिक खाना पसंद करती हैं। कुछ महिलाओं को लगता है कि उन्हें गर्भावस्था...

आप अपने पहले ट्राईमेस्टर (प्रेगनेंसी के नौ महीनों के पहले तीन महीने) के आखिर तक पहुँच रही हैं और आपक...

गर्भावस्था के नौ महीने काफी अहम होते हैं। इस दौरान आपको हर दिन अतिरिक्त कैलोरी के साथ ही साथ ज्यादा ...

Other articles related to this

गर्भावस्था के दौरान संतुलित आहार ही एक नन्हीं जिंदगी को स्वस्थ जीवन दे सकता है। लेकिन ये भी सच है कि गर्भावस्था के दौरान महिला के शरीर में कई बदलाव होते हैं ऐसे में कभी कुछ खाने की इच्छा होती है तो कभी भूख

गर्भावस्था के दौरान किसी भी रूप में नारियल और मिश्री का सेवन करना काफी लाभकारी होता है। इनमें कई विटामिन, मिनरल्स और अमीनो एसिड होते हैं जो गर्भावस्था में लाभकारी माने जाते हैं। मिश्री चीनी के मुकाबले

गर्भवती स्त्री को पूरे गर्भकाल में भोजन संबंधी पसंद और पोषण के बीच में संतुलन बैठाना सबसे कठिन काम लगता है। आधुनिक युग में में ज़्यादा से ज़्यादा खाये जाने वाले पास्ता और बर्गर गर्भवती स्त्री के लिए वर्जित हो जाते

गर्भावस्था के दौरान, कई महिलाएं अधिक खाना पसंद करती हैं। कुछ महिलाओं को लगता है कि उन्हें गर्भावस्था के दौरान दो लोगो के लिए खाना पड़ेगा, लेकिन यह सही नहीं है। गर्भावस्था में वजन आवश्यकता से अधिक बढ़ाना नुकसानदायक हो

आप अपने पहले ट्राईमेस्टर (प्रेगनेंसी के नौ महीनों के पहले तीन महीने) के आखिर तक पहुँच रही हैं और आपका शरीर अब बदलते हुए हॉर्मोन स्तरों के साथ एडजस्ट हो रहा है। तीसरे महीने के अंत तक आपके बच्चे का पूरा विकास हो चुका है।

गर्भावस्था के नौ महीने काफी अहम होते हैं। इस दौरान आपको हर दिन अतिरिक्त कैलोरी के साथ ही साथ ज्यादा पोषक तत्वों की ज़रूरत होती है। ऐसे में महिलाएं हमेशा पसोपेश में रहती हैं कि वो क्या खाएं और क्या ना खाएं? तो हम आपको बताते हैं

जननम कम्युनिटी से जुड़ने के फायदे!

Join the #1 global parenting resource and start receiving the following helpful newsletter:

Join the community now!

Fill the following & enjoy perks!

Due Date or child's birthday