स्वस्थ गर्भावस्था के लिए आहार

एक महिला के जीवन में आये ख़ास अवसरों में से सबसे कीमती है गर्भावस्था के नौ महीने। आपके शरीर में हो रही एक नए जीवन की संरचना से ज़्यादा अद्भुत इस संसार में और क्या हो सकता?

लेकिन ये नौ महीने बिना किसी तकलीफ़ के गुज़रें, इसके लिए बेहद ज़रूरी है कि आप अपनी सेहत का ध्यान रखें। और गर्भावस्था के दौरान स्वस्थ रहने के लिए सबसे ज़रूरी है पोषण। जहाँ सामान्यतः एक कामकाजी महिला को रोजाना 2100 कैलोरीज़ (calories) की जरुरत होती है, गर्भावस्था के दौरान कैलोरीज़ यह बढ़कर 2400 तक हो जाती ह गर्भवस्था के संतुलित आहार (Pregnancy Diet in Hindi) में रोज़ाना 60 -70 ग्राम प्रोटीन, 1500 मिलीग्राम कैल्शियम, 4 मिलीग्राम फोलिक एसिड, 200 माइक्रोग्राम आयोडीन, 20 मिलीग्राम ज़िंक की मात्रा होना चाहिए।

इस दौरान आप जो भी खाते हैं, वही पोषण आपके शिशु को भी मिलता है। इसलिए यह ज़रूरी है आपका आहार शिशु के संपूर्ण विकास में बाधक न बने।

जननम की सलाह: गर्भावस्था के लिए आहार चार्ट

आइये अब विस्तार से जानते हैं स्वस्थ गर्भावस्था के लिए स्वस्थ आहार (Healthy pregnancy diet) के बारे में। जननम की सलाह है की आप इसका ध्यान आपको पहले महीने से लेकर आखिरी महीने तक रखें।

  • प्रेगनेंसी (Pregnancy) के दौरान फोलेट युक्त आहार जैसे दाल, राजमा, हरी-पत्तेदार सब्जियाँ तथा साबुत अनाज का सेवन करें। हरी-पत्तेदार सब्जियों से आपके शरीर में आयरन (iron) की कमी भी नहीं होगी। तथा साबुत अनाज फाइबर (Fiber) की कमी को पूरा करेगा।
  • भोजन में अदरक ज़रूर शामिल करें। अदरक जी-मिचलाने जैसी परेशानियों को कम करता है। 
  • विटामिन-E के स्त्रोत, जैसे- सूर्यमुखी का तेल (Sunflower oil), अंडे की जर्दी , कच्चे बादाम आदि का प्रयोग भी ज्यादा से ज्यादा करें। इनके सेवन गर्भपात के खतरे को कम करता है।
  • खूब पानी पिएं। कम से कम दस गिलास पानी उबाल कर, एक दिन में पीने की आदत डालें। इसके अलावा आप फलों के जूस का भी सेवन कर सकते हैं। पर्याप्त मात्रा में पानी आपके शिशु के शरीर में नमी की मात्रा बरक़रार रखता है।  
  • मछली, दूध से बने उत्पाद , अखरोट, इत्यादि आपके शरीर में कैल्शियम की कमी को पूरा करते हैं व शिशु के हड्डी , तंत्रिकाओं, दिल, दाँत, और मांसपेशियों के निर्माण में सहायता करता है। इसलिए इन खाद्य पदार्थों को अपने आहार चार्ट (pregnancy food chart in hindi) में अवश्य शामिल करें।  
  • प्रेगनेंसी की पूरी अवधि में प्रत्येक दिन, कम से कम 80g प्रोटीन का सेवन ज़रूरी है। यह सुनिश्चित करता है की आपका गर्भधारण स्वस्थ हो। मछली, अंडे, सोयाबीन, लाल मांस, फलियां ,बादाम, अखरोट इत्यादि प्रोटीन के अच्छे स्त्रोत माने जाते हैं।
  • आयोडीन की कमी से शिशु का मानसिक विकास रुक सकता है। इसलिए भोजन में आयोडीन की मात्रा पर्याप्त रखने के लिए आयोडीन-युक्त नमक, अंडे एवं दूध से बने पदार्थ लें ।  
  • खून की कमी से बचने के लिए आप आयरन की गोली खा सकते हैं। इसके अलावा उल्टी से बचने के लिए विटामिन-बी 6 भी ले सकते है। लेकिन याद रखें, कोई भी दवा लेने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह ज़रूर लें।

जननम कहे हाँ

  • पोषक एवं संतुलित आहार
  • हर चार घंटे पर कुछ-न-कुछ खाना
  • नियमित चिकित्सक द्वारा जाँच  

 

जननम कहे ना

  • अधिक तीखा, चटपटा एवं मसालेदार खाना
  • शराब का सेवन एवं धूम्रपान
  • चाय या काफी का अत्यधिक सेवन

 

माँ बनने की आपकी इस यात्रा को, सही सलाह के साथ, सुखद और खुशाल बनाने में जननम है आपका साथी। जुड़े रहे हमसे और करें खुशियों का स्वागत ज़िन्दगी में। 

आज ही जननम फेसबुक कम्युनिटी को ज्वाइन करें जहां हमारे एक्सपर्ट्स प्रेगनेंसी के हर पहलू पर टिप्स दे रहे हैं -यहाँ क्लिक करें

जननम आपको सही, सटीक और उपयोगी जानकारी उपलब्ध कराने के लिए हमेशा आपके साथ हैं। लेकिन इसी के साथ आपको डॉक्टर से सलाह लेना भी ज़रूरी है।

यह भी देखें : -

गर्भावस्था में पोषण के स्रोत एवं आहार


Other articles related to this

यूँ तो पोषक खाद्य का सेवन करने की सलाह जननम हमेशा ही देता है, पर गर्भावस्था में दौरान इसकी महत्ता कई...

गर्भावस्था के दौरान किसी भी रूप में नारियल और मिश्री का सेवन करना काफी लाभकारी होता है। इनमें कई विट...

बच्चा परिवार में असीमित खुशियाँ लेकर आता है। ऐसे में अगर आपको जुड़वा बच्चे होने होने की खबर मिले तो ...

पहले महीने में, दिन की शुरुआत नाश्ते में फल खाकर करना एक अच्छी बात है। आप, तरबूज़ के साथ-साथ संतरे और...

गर्भावस्था से लेकर स्तनपान कराने के स्टेज तक कैल्शियम बहुत ज़रूरी पोषक तत्व है। महिला के साथ ही शिशु...

इस स्टेज में यूटेरस और बच्चे का विकास हो रहा है इसलिए फल, सब्ज़ियाँ या फाइबर से भरपूर डाइट खाना आपके ...

Other articles related to this

यूँ तो पोषक खाद्य का सेवन करने की सलाह जननम हमेशा ही देता है, पर गर्भावस्था में दौरान इसकी महत्ता कई गुना बढ़ जाती है (nutrition during pregnancy)। यह ना केवल माँ के शरीर को गर्भावस्था के नौ महीने आराम

गर्भावस्था के दौरान किसी भी रूप में नारियल और मिश्री का सेवन करना काफी लाभकारी होता है। इनमें कई विटामिन, मिनरल्स और अमीनो एसिड होते हैं जो गर्भावस्था में लाभकारी माने जाते हैं। मिश्री चीनी के मुकाबले

बच्चा परिवार में असीमित खुशियाँ लेकर आता है। ऐसे में अगर आपको जुड़वा बच्चे होने होने की खबर मिले तो खुशियाँ ओर उत्साह दोगुनी ही हो जाती है!

पहले महीने में, दिन की शुरुआत नाश्ते में फल खाकर करना एक अच्छी बात है। आप, तरबूज़ के साथ-साथ संतरे और सेब जैसे फल खा सकती है; आपको अपने रोज़ की डाइट में कम से कम तीन फल शामिल करने चाहिए।

गर्भावस्था से लेकर स्तनपान कराने के स्टेज तक कैल्शियम बहुत ज़रूरी पोषक तत्व है। महिला के साथ ही शिशु के विकास में भी कैल्शियम पर्याप्त मात्रा में चाहिए। गर्भावस्था या प्रसव के बाद पैर में ऐंठन कैल्शियम की कमी के कारण हो सकती है। इस

इस स्टेज में यूटेरस और बच्चे का विकास हो रहा है इसलिए फल, सब्ज़ियाँ या फाइबर से भरपूर डाइट खाना आपके लिए फायदेमंद रहेगा। इससे आपके यूटेरस के वॉल्स को मज़बूती मिलेगी ।

जननम कम्युनिटी से जुड़ने के फायदे!

Join the #1 global parenting resource and start receiving the following helpful newsletter:

Join the community now!

Fill the following & enjoy perks!

Due Date or child's birthday