नार्मल डिलीवरी के लिए गर्भावस्था के दौरान कौन से व्यायाम करें

जानें नार्मल डिलीवरी के लिए गर्भावस्था के दौरान किये जाने वाले व्यायाम के बारे में

हम जब भी जनन की प्रक्रिया के बारे में बात करते हैं, तो नार्मल डिलीवरी ही हमारी प्राथमिकता होती है। जहाँ एक ओर यह तरीका माँ के लिए हितकारी है, वहीं दूसरी ओर यह नवजात शिशु को भी अस्थमा और बैक्टीरियल इंफेकशन से भी बचाता है। आइए, अब उन व्यायामों के बारे में जानते हैं, जिनके द्वारा एक गर्भवती महिला नॉर्मल डिलीवरी के लिए अपने शरीर को तैयार कर सकती है -


नार्मल डिलीवरी के लिए गर्भावस्था के दौरान कौन से व्यायाम करें

  • टेलर व्यायाम

यह व्यायाम आपके श्रोणि, कूल्हे, और जांघ की मांसपेशियों को मजबूत करते हैं और पीठ दर्द से छुटकारा पाने में मदद कर सकते हैं। इसको करने के लिए आप अपने घुटनों के बल फर्श पर बैठकर थोड़ा पीछे की ओर झुकें। अब अपनी पीठ को सीधा रखें और पांच से दस मिनट इसी स्थिति में बैठे।

  • केगल व्यायाम

यह व्यायाम हर गर्भवती महिला के लिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह आपकी योनि और गुदा के क्षेत्र में स्थित मांसपेशियों को मजबूत बनाकर गर्भावस्था में इन पर पड़ने वाले तनाव को कम करता है। इसको करने के लिए आप एक आरामदायक स्थिति में बैठें, आंखें बंद करें और अपनी मूत्र प्रवाह में काम आने वाली मांसपेशियों को कसें। इसी स्तिथि में 3-5 सेकंड में रहें और फिर उस दवाब को छोड़ दें। इस प्रक्रिया को 10 बार दोहरायें।

 

  • ब्रिड्जस

इस व्यायाम की मदद से आपकी कमर का निचला हिस्सा मजबूत होता है, जो गर्भावस्था के बढ़ते वजन को संभालने में आपकी मदद करता है। इसके साथ ही, यह आपके नितम्बों को मजबूत बनाकर प्रसव में सहायता देता है। इसको करने के लिए अपने घुटनों को मोड़ें और अपने हाथों को अपने नितम्बों के नीचे रखें। अब धीरे से अपने हिप्स को उठा कर उसको कंधे और धड़ की सीध में लाएं और कुछ सेकण्ड्स इसी स्थिति में रहें।

  • स्क्वाट

यह श्रोणि की मांसपेशियों में संकुचन और ढीलापन लाकर प्रसव के दर्द को कम करने में मदद करता है। इसको करने के लिए आप हवा में ही बैठने की स्तिथि में आएं और एक सेकंड के लिए इसी स्थिति में रहें। इसे फिर से दोहराएं, और इस बार अपनी कोहनी को अपनी जांघों के अंदर रखें और धीरे-धीरे अपने कूल्हों को खोलने का प्रयास करें।

नार्मल डिलीवरी के लिए स्वस्थ और सबल शरीर होना आवश्यक है जो व्यायाम करने से और सही आहार लेने से हो सकता है। इसलिए अगर आप नार्मल डिलीवरी की तैयारी कर रहीं है तो अपने डॉक्टर की सलाह से ऐसे ही कुछ व्यायाम को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बन लें। हमे विशवास है की आपका प्रसव बिना किसी परेशानी के नार्मल डिलीवरी के साथ हो जायेगा।

 

सारांश : गर्भावस्था के दौरान व्यायाम प्रसव के दर्द को सहन करने के लिए आपके शरीर को तैयार करने में मदद करता है। इसलिए, यदि आप सामान्य प्रसव की योजना बना रहे हैं, तो अपने शरीर को स्वस्थ और मजबूत रखने के लिए सबसे अच्छे और सुरक्षित व्यायाम के बारे में सलाह के लिए अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

Summary : Exercise during pregnancy helps you prepare your body to bear the pain of labour. So, if you’re planning for normal delivery, do consult your doctor for advice on the best and safest exercises you can take up to keep your body healthy and strong.

आज ही जननम फेसबुक कम्युनिटी को ज्वाइन करें जहां हमारे एक्सपर्ट्स प्रेगनेंसी के हर पहलू पर टिप्स दे रहे हैं -यहाँ क्लिक करें

जननम आपको सही, सटीक और उपयोगी जानकारी उपलब्ध कराने के लिए हमेशा आपके साथ हैं। लेकिन इसी के साथ आपको डॉक्टर से सलाह लेना भी ज़रूरी है।

 


Other articles related to this

गर्भावस्था के दौरान संतुलित आहार ही एक नन्हीं जिंदगी को स्वस्थ जीवन दे सकता है। लेकिन ये भी सच है कि...

गर्भावस्था के नौ महीने काफी अहम होते हैं। इस दौरान आपको हर दिन अतिरिक्त कैलोरी के साथ ही साथ ज्यादा ...

बच्चा परिवार में असीमित खुशियाँ लेकर आता है। ऐसे में अगर आपको जुड़वा बच्चे होने होने की खबर मिले तो ...

महिलाओं को गर्भधारण के बाद जो सबसे पहली बात ध्यान में रखनी पड़ती है, वो है संतुलित, पोषक और नियमित आह...

गर्भ धारण करना किसी भी महिला के लिए बहुत ही ख़ुशी का पल होता है । अगर आप कार्यरत महिला हैं तो इस दौर...

गर्भाधान और पुंसवन संस्कार के बाद तीसरा संस्कार है सीमन्तोन्नयन संस्कार, जिसे सीमन्तकरण या फिर सीमन्...

Other articles related to this

गर्भावस्था के दौरान संतुलित आहार ही एक नन्हीं जिंदगी को स्वस्थ जीवन दे सकता है। लेकिन ये भी सच है कि गर्भावस्था के दौरान महिला के शरीर में कई बदलाव होते हैं ऐसे में कभी कुछ खाने की इच्छा होती है तो कभी भूख

गर्भावस्था के नौ महीने काफी अहम होते हैं। इस दौरान आपको हर दिन अतिरिक्त कैलोरी के साथ ही साथ ज्यादा पोषक तत्वों की ज़रूरत होती है। ऐसे में महिलाएं हमेशा पसोपेश में रहती हैं कि वो क्या खाएं और क्या ना खाएं? तो हम आपको बताते हैं

बच्चा परिवार में असीमित खुशियाँ लेकर आता है। ऐसे में अगर आपको जुड़वा बच्चे होने होने की खबर मिले तो खुशियाँ ओर उत्साह दोगुनी ही हो जाती है!

महिलाओं को गर्भधारण के बाद जो सबसे पहली बात ध्यान में रखनी पड़ती है, वो है संतुलित, पोषक और नियमित आहार। गर्भ के पहले तीन महीने शिशु के विकास की दृष्टि से सबसे अधिक महत्वपूर्ण होते हैं

गर्भ धारण करना किसी भी महिला के लिए बहुत ही ख़ुशी का पल होता है । अगर आप कार्यरत महिला हैं तो इस दौरान आपको कुछ कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है।

गर्भाधान और पुंसवन संस्कार के बाद तीसरा संस्कार है सीमन्तोन्नयन संस्कार, जिसे सीमन्तकरण या फिर सीमन्त संस्कार के नाम से भी जानते हैं। जब गर्भ चौथे, छठे या आठवें महीने का होता है, तब यह संस्कार संपन्न किया जाता है।

जननम कम्युनिटी से जुड़ने के फायदे!

Join the #1 global parenting resource and start receiving the following helpful newsletter:

Join the community now!

Fill the following & enjoy perks!

Due Date or child's birthday