गर्भावस्था में आयरन क्यों महत्वपूर्ण है?

गर्भावस्था में आपके शरीर में पोषण सम्बन्धी आवश्यकताएं (Nutrition during pregnancy) बढ़ जाती हैं, क्योंकि इस दौरान न खुद के लिए बल्कि अपने पेट में पल रहे शिशु के लिए भी पोषण आपको ही लेना होता है। इन आवश्यक न्यूट्रिसियन में से एक है आयरन, जिसे सही मात्रा में लेने की सलाह आपको अक्सर मिल रही होगी। अक्सर आपको आयरन की आवश्यकता हमेशा होती है मगर गर्भावस्था में आयरन की जरुरत लगभग दुगुनी हो जाती है।

जननम से जानिये : गर्भावस्था में आयरन लेना क्यों जरुरी है?

  • हीमोग्लोबिन के लिए: आयरन हीमोग्लोबिन बनाने में मदद करता है जिससे आपका शरीर सुचारू ढंग से चल पाता है। गर्भावस्था के दौरान आपके और आपके बच्चे के लिए अतिरिक्त रक्त (हीमोग्लोबिन) बनाने के लिए आयरन आवश्यक है। आयरन ऑक्सीजन को फेफड़ों से शरीर के बाकी हिस्सों तक ले जाने में मदद करता है।
  • एनीमिया से बचाव के लिए : पर्याप्त आयरन न मिल पाने से आपको बहुत थकावट महसूस हो सकती है। आयरन की कमी से आपको एनीमिया हो सकता है। एनीमिया होने से आपके बच्चे का विकास रुक सकता है, और समय से पहले भी डिलीवरी होने की संभावना बढ़ जाती है।
  • प्लेसेंटा के सही विकास के लिए : आपको अपने बढ़ते शिशु और प्लेसेंटा के लिए, विशेष रूप से दूसरी और तीसरी तिमाही में अतिरिक्त आयरन की जरूरत होती है। सही आयरन की आपूर्ति प्लेसेंटा का सही विकास सुनिश्चित करता है।
  • मायोग्लोबिन बनाने के लिए : गर्भावस्था में आयरन मायोग्लोबिन भी देता है जो एक प्रोटीन घटक है और आपकी मांसपेशियों को ऑक्सीजन की आपूर्ति में मदद करता है। मायोग्लोबिन कोलेजन (हड्डी, उपास्थि और अन्य संयोजी ऊतक के प्रोटीन) और कई एंजाइमों का एक महत्वपूर्ण घटक है।
  • इम्यून सिस्टम की मजबूती के लिए :आयरन एक ऐसा मिनरल है जो आपके इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाता है। यह आपके ऊर्जा के स्तर को बढ़ाता है और साथ ही तनाव, संक्रमण और बीमारी से निपटने के लिए आपकी प्रतिरोधक क्षमताको भी बढ़ाता है।
  • सामन्य अवस्था में एक महिला को प्रतिदिन लगभग 18 मिलीग्राम आयरन की आवश्यकता होती है। मगर गर्भावस्था में आयरन की आवश्यकता 27 मिलीग्राम तक बढ़ जाती है। इसलिए गर्भावस्था के दौरान ऐसे आहार लेने चाहिए जिसमें आयरन प्रचुर मात्रा में मौजूद हो। इन्हें अपने गर्भावस्था के डाइटचार्ट pregnancy nutrition chart) में शामिल करें। इसके अलावा आपका डॉक्टर आयरन गोली लेने की सलाह भी दे सकता है। आयरन की सही आपूर्ति आपकी गर्भावस्था स्वस्थ और सुरक्षित बनाता है।(

सारांश : गर्भवती महिलाओं के लिए आयरन एक महत्वपूर्ण पोषण तत्व है। गर्भावस्था में आयरन की कमी से एनीमिया हो सकता है, जो आपके बच्चे के विकास को भी प्रभावित कर सकता है। डॉक्टर के परामर्श के बाद आयरन के समृद्ध स्रोत या सप्लीमेंट्स लेने से इसे रोका जा सकता है।

आज ही जननम फेसबुक कम्युनिटी को ज्वाइन करें जहा हमारे एक्सपर्ट्स प्रेगनेंसी के हर पहलू पर टिप्स दे रहे है - यहाँ क्लिक करें

जननम आपको सही, सटीक और उपयोगी जानकारी उपलब्ध कराने के लिए हमेशा आपके साथ हैं। लेकिन इसी के साथ आपको डॉक्टर से सलाह लेना भी ज़रूरी है।


Other articles related to this

बच्चा परिवार में असीमित खुशियाँ लेकर आता है। ऐसे में अगर आपको जुड़वा बच्चे होने होने की खबर मिले तो ...

पहले महीने में, दिन की शुरुआत नाश्ते में फल खाकर करना एक अच्छी बात है। आप, तरबूज़ के साथ-साथ संतरे और...

इस स्टेज में यूटेरस और बच्चे का विकास हो रहा है इसलिए फल, सब्ज़ियाँ या फाइबर से भरपूर डाइट खाना आपके ...

घी - यह एक ऐसा खाद्य है, जिससे शायद ही कोई भारतीय वाकिफ ना होगा। आमतौर पर सभी भारतीय घरों में प्रयोग...

गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को अपनी सेहत का खास ख्याल रखना पड़ता है। इस अवस्था में उन्हें सेहत से जु...

भारत में सड़क किनारे, चटकारे लेते हुए चाट और पानी-पूरी खाना किशोरी से लेकर हर उम्र की महिला की पहली प...

Other articles related to this

बच्चा परिवार में असीमित खुशियाँ लेकर आता है। ऐसे में अगर आपको जुड़वा बच्चे होने होने की खबर मिले तो खुशियाँ ओर उत्साह दोगुनी ही हो जाती है!

पहले महीने में, दिन की शुरुआत नाश्ते में फल खाकर करना एक अच्छी बात है। आप, तरबूज़ के साथ-साथ संतरे और सेब जैसे फल खा सकती है; आपको अपने रोज़ की डाइट में कम से कम तीन फल शामिल करने चाहिए।

इस स्टेज में यूटेरस और बच्चे का विकास हो रहा है इसलिए फल, सब्ज़ियाँ या फाइबर से भरपूर डाइट खाना आपके लिए फायदेमंद रहेगा। इससे आपके यूटेरस के वॉल्स को मज़बूती मिलेगी ।

घी - यह एक ऐसा खाद्य है, जिससे शायद ही कोई भारतीय वाकिफ ना होगा। आमतौर पर सभी भारतीय घरों में प्रयोग में लाये जाने वाला घी भोजन के स्वाद को बढ़ाने के साथ-साथ आपकी सेहत के लिए भी लाभकारी है

गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को अपनी सेहत का खास ख्याल रखना पड़ता है। इस अवस्था में उन्हें सेहत से जुड़ी कई तरह की समस्याएं हो जाती है। ऐसे में उन्हें रोजाना दूध पीने और पोष्टिक आहार लेने की सलाह दी जाती है। डिलीवरी के

भारत में सड़क किनारे, चटकारे लेते हुए चाट और पानी-पूरी खाना किशोरी से लेकर हर उम्र की महिला की पहली पसंद होती है। लेकिन गर्भावस्था में चाट या पानी पुरी की यह पसंदगी थोड़ी मुश्किल में आ जाती है । उस समय मन कहता है खा लें लेकिन

जननम कम्युनिटी से जुड़ने के फायदे!

Join the #1 global parenting resource and start receiving the following helpful newsletter:

Join the community now!

Fill the following & enjoy perks!

Due Date or child's birthday