गर्भावस्था के दौरान घी के लाभ

जननम की सलाह : क्या गर्भावस्था के दौरान घी खाना सही है?

घी - यह एक ऐसा खाद्य है, जिससे शायद ही कोई भारतीय वाकिफ ना होगा। आमतौर पर सभी भारतीय घरों में प्रयोग में लाये जाने वाला घी भोजन के स्वाद को बढ़ाने के साथ-साथ आपकी सेहत के लिए भी लाभकारी है। अगर आप गर्भवती हैं, तो इसकी महत्ता और उपयोगिता को जननम के साथ जानिए और इसको सही तरीके से इस्तेमाल में लाकर इसके अनगिनत गुणों का लाभ उठाइये।

जी हाँ। ऐसा अक्सर पाया गया है कि लोग सोचते हैं कि घी खाने से एक गर्भवती महिला का वजन जयदा बढ़ जायेगा, जिससे उसको दिक्कत हो सकती हैं। पर सच्चाई इसके बिलकुल विपरीत है। घी तो पाचन और चयापचय को बढ़ावा देता है और वसा का एक अच्छा स्रोत है। सभी गर्भवती महिलाओं को एक उचित मात्रा में (एक दिन में तीन से चार चम्मच) घी अपनी गर्भावस्था के डाइट चार्ट  (pregnancy diet chart) घी शामिल ज़रूर करना चाहिए।

जननम से जानिये : घी के लाभ (Benefits of having ghee)

यह पाचन समस्याओं का इलाज करने में उपयोगी है।

घी में एंटी-वायरल गुण होते हैं जो पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इसमें ब्यूटिरेट नामक एक फैटी एसिड की उच्च मात्रा भी होती है जो आंत के स्वास्थ्य को अच्छा करने में एक अहम भूमिका निभाता है।

यह  शिशु के उचित विकास  को बढ़ावा देता ह।

आपके बच्चे के विकास के लिए आपको अपने दूसरे और तीसरे तिमाही के दौरान प्रति दिन लगभग 300 अतिरिक्त कैलोरी की आवश्यकता होगी। घी इस कैलोरी की पूर्ति करके बच्चे और उनके मस्तिष्क के विकास में सहायता प्रदान करता है।

गर्भावस्था के दौरान घी के लाभ

यह माँ के शरीर को पोषित करता है।

घी का सेवन करने से मनोदशा अच्छी रहती है और यह तनाव से राहत देता है। यह शरीर को पोषित करने और इसे गर्म और मजबूत रखने के प्राकृतिक तरीकों में से एक है।

हालांकि इसमें कोई दो राय नहीं है कि घी एक गर्भवती महिला के लिए लाभकारी है, पर इसका सही मात्रा में उपयोग ही इन सभी लाभों को सुनिश्चित करता है। आपको किता घी लेना चाहिए यह आपके चिकित्सक ही आपको सही-सही बता सकेंगे।

सारांश :  घी एक बहुत ही  पौष्टिक, बहुत पुराना भारतीय व्यंजन  है। गर्भावस्था के दौरान सही मात्रा में घी का सेवन बच्चे की उचित वृद्धि सुनिश्चित करता है। यह पाचन में मदद करता है और  तनाव  को भी कम करता है। गर्भावस्था के दौरान अपने दैनिक आहार में घी की सही मात्रा जानने के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

Summary: Ghee is a very nutritious, very old Indian dish. Ghee consumption in the right amount during pregnancy ensures proper growth of the child. It helps in digestion and also reduces stress. Consult your doctor to know the exact amount of ghee in your daily diet during pregnancy.

यह भी  देखें :-  घी चावल पहले ट्राइमेस्टर के लिए

आज ही जननम फेसबुक कम्युनिटी को ज्वाइन करें जहां हमारे एक्सपर्ट्स प्रेगनेंसी के हर पहलू पर टिप्स दे रहे हैं -यहाँ क्लिक करें

जननम आपको सही, सटीक और उपयोगी जानकारी उपलब्ध कराने के लिए हमेशा आपके साथ हैं। लेकिन इसी के साथ आपको डॉक्टर से सलाह लेना भी ज़रूरी है।

 


Other articles related to this

बच्चा परिवार में असीमित खुशियाँ लेकर आता है। ऐसे में अगर आपको जुड़वा बच्चे होने होने की खबर मिले तो ...

गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को अपनी सेहत का खास ख्याल रखना पड़ता है। इस अवस्था में उन्हें सेहत से जु...

भारत में सड़क किनारे, चटकारे लेते हुए चाट और पानी-पूरी खाना किशोरी से लेकर हर उम्र की महिला की पहली प...

भारतीय भोजन में रोटी प्रमुख भोजन होता है और इसके माध्यम से आप प्रेग्नेंसी में उपयुक्त पोषण ले सकतीं ...

सामान्य तौर पर गर्भवती महिला को प्रतिदिन चलते-फिरते रहना चाहिए, जिससे डिलीवरी नार्मल रहे। पर कभी-कभी...

गर्भावस्था के नौ महीने काफी अहम होते हैं। इस दौरान आपको हर दिन अतिरिक्त कैलोरी के साथ ही साथ ज्यादा ...

Other articles related to this

बच्चा परिवार में असीमित खुशियाँ लेकर आता है। ऐसे में अगर आपको जुड़वा बच्चे होने होने की खबर मिले तो खुशियाँ ओर उत्साह दोगुनी ही हो जाती है!

गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को अपनी सेहत का खास ख्याल रखना पड़ता है। इस अवस्था में उन्हें सेहत से जुड़ी कई तरह की समस्याएं हो जाती है। ऐसे में उन्हें रोजाना दूध पीने और पोष्टिक आहार लेने की सलाह दी जाती है। डिलीवरी के

भारत में सड़क किनारे, चटकारे लेते हुए चाट और पानी-पूरी खाना किशोरी से लेकर हर उम्र की महिला की पहली पसंद होती है। लेकिन गर्भावस्था में चाट या पानी पुरी की यह पसंदगी थोड़ी मुश्किल में आ जाती है । उस समय मन कहता है खा लें लेकिन

भारतीय भोजन में रोटी प्रमुख भोजन होता है और इसके माध्यम से आप प्रेग्नेंसी में उपयुक्त पोषण ले सकतीं हैं। रोटी के लिए गेहूं के अतिरिक्त विभिन्न प्रकार के आटे उपलब्ध हैं जिन्हें आप अपने आहार में शामिल कर सकतीं हैं।

सामान्य तौर पर गर्भवती महिला को प्रतिदिन चलते-फिरते रहना चाहिए, जिससे डिलीवरी नार्मल रहे। पर कभी-कभी, स्वास्थ्य संबंधी कारणों की वजह से गर्भवती महिलाओं को

गर्भावस्था के नौ महीने काफी अहम होते हैं। इस दौरान आपको हर दिन अतिरिक्त कैलोरी के साथ ही साथ ज्यादा पोषक तत्वों की ज़रूरत होती है। ऐसे में महिलाएं हमेशा पसोपेश में रहती हैं कि वो क्या खाएं और क्या ना खाएं? तो हम आपको बताते हैं

जननम कम्युनिटी से जुड़ने के फायदे!

Join the #1 global parenting resource and start receiving the following helpful newsletter:

Join the community now!

Fill the following & enjoy perks!

Due Date or child's birthday