गर्भवती महिलाओं को जरूर पीना चाहिए केसर वाला दूध

प्रैग्नेंसी में केसर दूध के फायदे

गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को अपनी सेहत का खास ख्याल रखना पड़ता है। इस अवस्था में उन्हें सेहत से जुड़ी कई तरह की समस्याएं हो जाती है। ऐसे में उन्हें रोजाना दूध पीने और पोष्टिक आहार लेने की सलाह दी जाती है। डिलीवरी के बाद महिलाओं का शरीर काफी कमजोर हो जाता है। ऐसे में अगर गर्भवती महिलाओं को प्रैग्नेंसी के दौरान दूध में केसर मिलाकर पिलाया जाए तो काफी फायदा होता है। इससे होने वाले बच्चे का रंग भी निखरता है और महिलाएं कई तरह की परेशानियों से भी दूर रहती हैं। सबसे बड़ी बात इन दिनों में सोने से पहले यह दूध पीने से अनिंद्रा से भी राहत मिलती है। आइए जानिए दूध में केसर मिलाकर पीने के फायदे

गर्भवती महिलाओं को जरूर पीना चाहिए केसर वाला दूध

गोरा बच्चा

प्रैग्नेंसी के दौरान रोजाना दूध में केसर मिलाकर पीने से बच्चे का रंग गोरा होता है। इसमें मौजूद थियामिन और रिबोफ्लेविन गुण गर्भवती महिलाओं के शरीर को स्वस्थ रखते हैं।

आंखों के लिए फायदेमंद

गर्भावस्था के दौरान कुछ महिलाओं को काफी तनाव हो जाता है जिस वजह से उन्हें

आंखों की कई तरह की समस्याएं हो जाती हैं। इसके अलावा कुछ महिलाओं की डिलीवरी के बाद नजर भी कमजोर हो जाती है। ऐसे में रोजाना उन्हें केसर वाला दूध पीना चाहिए जो आंखों को स्वस्थ रखता है।

पाचन क्रिया

इस दौरान महिलाओं की पाचन क्रिया काफी कमजोर हो जाती है। गर्भावस्था के दौरान शरीर में हार्मोन में बदलाव आने की वजह से उन्हें हैवी फूड नहीं पच पाता जिस वजह से अक्सर महिलाओं का पेट खराब रहता है। ऐसे में केसर वाला दूध पीने से पाचन शक्ति मजबूत होती है और पेट भी स्वस्थ रहता है।

नार्मल डिलीवरी

केसर वाला दूध पीने से नार्मल डिलीवरी के चांस बढ़ जाते हैं। ऐसे में गर्भावस्था के पांचवे महीने से ही इसका सेवन करना शुरु कर देना चाहिए।

ब्लड प्रेशर

प्रैग्नेंसी के दौरान महिलाओं को तनाव की वजह से ब्लड प्रेशर की समस्या हो जाता है। इसके लिए रोजाना केसर दूध का सेवन करने से ब्लड प्रेशर संतुलित रहता है और मांसपेशियां भी मजबूत होती हैं।

ध्यान रखने योग्य बातें

गर्भावस्था के दौरान केसर वाला दूध पीना काफी फायदेमंद होता है लेकिन इसका संतुलित मात्रा में ही सेवन करन चाहिए। दिन में सिर्फ केसर के 4 रेशे ही 1 गिलास दूध में मिलाकर पीने चाहिए। इसका अधिक सेवन करने से गर्भवती महिला और उसके बच्चे को नुकसान भी हो सकता है।

प्रैग्नेंसी में दूध पीने का सही समय है रात को सोने से पहले। जी हां, बिल्कुल रात को सोने से पहले दूध आपको अच्छी नींद देने में मददगार साबित हो सकता है जो गर्भवस्था में बहुत जरूरी होता है। इसके अलावा रात को दूध पीने से मां और बच्चे दोनों को भरपूर मात्रा में पोषण मिलता है।

आज ही जननम फेसबुक कम्युनिटी को ज्वाइन करें जहां हमारे एक्सपर्ट्स प्रेगनेंसी के हर पहलू पर टिप्स दे रहे हैं -यहाँ क्लिक करें

जननम आपको सही, सटीक और उपयोगी जानकारी उपलब्ध कराने के लिए हमेशा आपके साथ हैं। लेकिन इसी के साथ आपको डॉक्टर से सलाह लेना भी ज़रूरी है।

सारांश :  केसर के पौधे का वानस्पतिक नाम क्रोकस सैटाइवस है इसके अन्य नाम है कुंकुम, जाफरान। इसकी प्रकृति खुश्क और गर्म होती है इसलिए सर्दी के मौसम में रोजाना इसका सेवन करना चाहिए । केसर अपनी सुगंध और स्वाद के लिए प्रसिद्ध है।

Summary: The botanical name of saffron plant is Crocus sativus, its other name is Kunkum, Zafran. Its nature is warm and hot so it should be consumed daily during the winter season. Saffron is famous for its aroma and flavor.


Other articles related to this

बच्चा परिवार में असीमित खुशियाँ लेकर आता है। ऐसे में अगर आपको जुड़वा बच्चे होने होने की खबर मिले तो ...

घी - यह एक ऐसा खाद्य है, जिससे शायद ही कोई भारतीय वाकिफ ना होगा। आमतौर पर सभी भारतीय घरों में प्रयोग...

भारत में सड़क किनारे, चटकारे लेते हुए चाट और पानी-पूरी खाना किशोरी से लेकर हर उम्र की महिला की पहली प...

भारतीय भोजन में रोटी प्रमुख भोजन होता है और इसके माध्यम से आप प्रेग्नेंसी में उपयुक्त पोषण ले सकतीं ...

सामान्य तौर पर गर्भवती महिला को प्रतिदिन चलते-फिरते रहना चाहिए, जिससे डिलीवरी नार्मल रहे। पर कभी-कभी...

गर्भावस्था के नौ महीने काफी अहम होते हैं। इस दौरान आपको हर दिन अतिरिक्त कैलोरी के साथ ही साथ ज्यादा ...

Other articles related to this

बच्चा परिवार में असीमित खुशियाँ लेकर आता है। ऐसे में अगर आपको जुड़वा बच्चे होने होने की खबर मिले तो खुशियाँ ओर उत्साह दोगुनी ही हो जाती है!

घी - यह एक ऐसा खाद्य है, जिससे शायद ही कोई भारतीय वाकिफ ना होगा। आमतौर पर सभी भारतीय घरों में प्रयोग में लाये जाने वाला घी भोजन के स्वाद को बढ़ाने के साथ-साथ आपकी सेहत के लिए भी लाभकारी है

भारत में सड़क किनारे, चटकारे लेते हुए चाट और पानी-पूरी खाना किशोरी से लेकर हर उम्र की महिला की पहली पसंद होती है। लेकिन गर्भावस्था में चाट या पानी पुरी की यह पसंदगी थोड़ी मुश्किल में आ जाती है । उस समय मन कहता है खा लें लेकिन

भारतीय भोजन में रोटी प्रमुख भोजन होता है और इसके माध्यम से आप प्रेग्नेंसी में उपयुक्त पोषण ले सकतीं हैं। रोटी के लिए गेहूं के अतिरिक्त विभिन्न प्रकार के आटे उपलब्ध हैं जिन्हें आप अपने आहार में शामिल कर सकतीं हैं।

सामान्य तौर पर गर्भवती महिला को प्रतिदिन चलते-फिरते रहना चाहिए, जिससे डिलीवरी नार्मल रहे। पर कभी-कभी, स्वास्थ्य संबंधी कारणों की वजह से गर्भवती महिलाओं को

गर्भावस्था के नौ महीने काफी अहम होते हैं। इस दौरान आपको हर दिन अतिरिक्त कैलोरी के साथ ही साथ ज्यादा पोषक तत्वों की ज़रूरत होती है। ऐसे में महिलाएं हमेशा पसोपेश में रहती हैं कि वो क्या खाएं और क्या ना खाएं? तो हम आपको बताते हैं

जननम कम्युनिटी से जुड़ने के फायदे!

Join the #1 global parenting resource and start receiving the following helpful newsletter:

Join the community now!

Fill the following & enjoy perks!

Due Date or child's birthday