स्मोकिंग और ड्रिंकिंग से महिलाओं की फर्टीलिटी कैसे कम हो जाती है?

समय के साथ आधुनिक जीवनशैली में काफी परिवर्तन आया है। धूम्रपान और मदिरापान, आज कई लोगों की जीवनशैली का अभिन्न हिस्सा बन चुके हैं। यह साधारण अवस्था में शरीर को उतना नुकसान नहीं पहुंचाते, इसलिए लोग इनकी ज्यादा परवाह नहीं करते। मगर यदि आप गर्भधारण की योजना बना रही हैं, तो धूम्रपान और मद्यपान के प्रति सतर्क होना आवश्यक है। आपके पति या आपके द्वारा किया गया धूम्रपान और मदिरापान न सिर्फ आपके गर्भधारण में मुश्किलें पैदा कर सकता है, बल्कि आपके आने वाले शिशु के लिए भी नुकसानदेह हो सकता है।

जननम से जानिए, धूम्रपान और मदिरापान के संभाव्य प्रभाव

धूम्रपान :  यह कोई छुपी हुई बात नहीं है कि धूम्रपान आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। धूम्रपान अन्य स्वास्थ्य संबंधी बीमारीओं के साथ आपकी प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकता है। कुछ लोगों को ऐसा भ्रम होता है कि अधिक धूम्रपान बुरा है, मगर कम धूम्रपान से नुकसान नहीं है। हालाँकि ऐसा कोई नियत पैमाना नहीं है, और नुकसान कम या ज्यादा किसी मात्रा से भी होना संभव है। फिर भी, सतर्कता बरतते हुए गर्भावस्था पर विचार करने से पहले धूम्रपान छोड़ना ही बेहतर है।

धूम्रपान निम्न प्रकार की प्रजनन समस्याएँ पैदा कर सकता है:

  1. फलोपियन ट्यूबों से जुड़ी समस्याएं, जिनमें अंडे और शुक्राणु को के निकलने में अवरोध हो सकता है और एक्टोपिक गर्भावस्था जोखिम हो सकता है।
  2.  गर्भाशय ग्रीवा (सर्विकल) के कैंसर का एक जोखिम।
  3. अंडाशय में विकसित हो रहे अण्डों की क्षति की संभावना।
  4. सिगरेट में विषाक्त पदार्थ डिम्बग्रंथि के रोम में मौजूद डीएनए को भी क्षति पहुंचा सकते हैं।
  5. अधिकधूम्रपान गर्भधारण को विलम्बित कर सकता है।
  6. धूम्रपान से बच्चे में जन्म दोष का जोखिम।
  7. गर्भपात का अधिक जोखिम। इसका कारण है कि क्षतिग्रस्त अंडों के कारण, विकासशील भ्रूण को नुकसान होता है या गर्भाशय की अस्तर में प्रतिकूल परिवर्तन आता है जो भ्रूण की स्वस्थ प्रत्यारोपण की संभावना को कम कर सकता है।

मदिरापान : गर्भवती होने की कोशिश के बावजूद कई महिलाएं मादक पेय पदार्थों का उपभोग करती रहती हैं। जब आप गर्भ धारण करने की कोशिश कर रहे हैं तो शराब का सेवन नुकसानदेह है। डॉक्टरों की सलाह के अनुसार गर्भधारण के पहले और गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को अल्कोहल वाले पेय से पूरी तरह से बचना चाहिए।मद्यपान निम्न प्रकार की प्रजनन समस्याएँ पैदा कर सकता है:

  1. अधिक मद्यपान से गर्भधारण में लगने वाला समय बढ़ सकता है।
  2. शराब पीने से महिलाओं की प्रजनन क्षमता कम हो सकती है, चाहे कम मात्रा में ही क्यों न हो।
  3. अधिक मद्यपान से स्वस्थ बच्चे होने की संभावना कम हो जाती है।
  4. अधिक मद्यपान गर्भपात, और भ्रूण स्पेक्ट्रम विकार (एफएएसडी) का कारण बन सकता है।
  5. मद्यपान से पीने की मात्रा के अनुसार वजन बढ़ सकता है, जो गर्भधारण में बाधक हो सकता है।
  6. जो महिलाएं बड़ी मात्रा में अल्कोहल लेती हैं, उनमें भारी या अनियमित मासिक धर्म हो सकता है जो सीधे तौर पर प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकता है।
  7. कुछ महिलाएं ऐसा मानती हैं कि गर्भवती होने के बाद एक महिला को मद्यपान बंद कर देना चाहिए, लेकिन तब तक रुकने का कोई कारण नहीं है। मगर यह सही नहीं है। गर्भधारण की योजना बनाने वाली महिलाओं के लिए भी अल्कोहल न पीने का चयन करना सबसे सुरक्षित विकल्प है।

टिप्पणी : यहाँ, यह बताना महत्वपूर्ण है कि प्रजनन से जुडी सभी समस्याओं का धूम्रपान और मदिरापान से सीधा सम्बन्ध नहीं है; बल्कि धूम्रपान और मदिरापान इन समस्याओं के संभाव्य कारणों में प्रमुख है। हालाँकि अण्डों की क्षति सीधे तौर से धूम्रपान से जुड़ी है। यदि धूम्रपान और मदिरापान लम्बे समय तक किया जाय तो बड़ी समस्याएँ पैदा कर सकता है। हालाँकि अध्ययनों से यह भी पता चला है कि धूम्रपान और मदिरापान छोड़ने के बाद धीरे-धीरे प्रजनन दर में सुधार हो सकता है।

यदि आपके पति भी धूम्रपान और मदिरापान करते हैं, तो उन्हें भी इसे छोड़ने के लिए प्रोत्साहित कीजिए। धुंए के कारण परोक्ष रूप से किया गया धूम्रपान भी नुकसानदायक है। साथ ही, धूम्रपान और मद्यपान के कारण पुरुषों की प्रजनन क्षमता भी प्रभावित होती है। इसलिए इन्हें छोड़ना बेहतर|

सारांश : आधुनिक जीवनशैली ने लोगों के सोचने और कार्य करने के तरीके को बदल दिया है। वर्तमान समय में, अधिकांश महिलाओं का धूम्रपान और शराब पीने के प्रति एक खुला रवैया है। हालाँकि, ये आदतें आपके सामान्य जीवन का एक हिस्सा हो सकती हैं, लेकिन अगर आप गर्भधारण करने की योजना बना रही हैं, तो आपको उन्हें छोड़ने के बारे में सोचना चाहिए, क्योंकि यह गर्भधारण के दौरान या गर्भावस्था के समय दोनों में ही जटिलताएँ पैदा कर सकती हैं।

Summary: Modern lifestyle has changed the way people think and act. At present, most women have an open attitude towards smoking and drinking. However, these habits can be a part of your normal life, but if you are planning to conceive, then you should think about abandoning it, because it can create complexities both during pregnancy or at the time of pregnancy. May be.  <top>

आज ही जननम फेसबुक कम्युनिटी को ज्वाइन करें जहां हमारे एक्सपर्ट्स प्रेगनेंसी के हर पहलू पर टिप्स दे रहे हैं -यहाँ क्लिक करें

जननम आपको सही, सटीक और उपयोगी जानकारी उपलब्ध कराने के लिए हमेशा आपके साथ हैं। लेकिन इसी के साथ आपको डॉक्टर से सलाह लेना भी ज़रूरी है।


Other articles related to this

सर्दियों में तापमान के गिरने के साथ-साथ शरीर और त्वचा में बहुत से बदलाव आने लगते हैं। जहां त्वचा हमे...

गर्भावस्था से पहले आहार को लेकर कई प्रकार के मिथक और भ्रांतियां प्रचलित हैं। जहाँ कुछ खाद्य पदार्थों...

अगर आप एक स्वस्थ गर्भावस्था का आश्वासन चाहती हैं तो गर्भावस्था में होने वाली देखभाल में सही टीकाकरण ...

गर्मियों में त्वचा की सुरक्षा काफी अहम हो जाती है। खासकर अगर आपकी त्वचा तैलीय हो तो उसका विशेष ख्याल...

वसंत ऋतु में बालों में डैंड्रफ या रूसी की समस्या सबसे अधिक होती है। ऐसे में रूसी के कारण बालों का झड़...

गर्भवती होने का निर्णय लेना किसी भी महिला के लिए जीवन का एक महत्वपूर्ण निर्णय होता है। इसके लिए ये ज...

Other articles related to this

सर्दियों में तापमान के गिरने के साथ-साथ शरीर और त्वचा में बहुत से बदलाव आने लगते हैं। जहां त्वचा हमेशा खिंची-खिंची रहती है, वहीं बालों में अत्यधिक रूखापन आ जाता है। जिनके बालों की प्रकृति पहले से ही शुष्क होती

गर्भावस्था से पहले आहार को लेकर कई प्रकार के मिथक और भ्रांतियां प्रचलित हैं। जहाँ कुछ खाद्य पदार्थों को नजरअंदाज किया जाता है, वहीँ कुछ खाद्य पदार्थों को लेकर यह भी माना जाता है कि ये गर्भवती होने से रोकते हैं.

अगर आप एक स्वस्थ गर्भावस्था का आश्वासन चाहती हैं तो गर्भावस्था में होने वाली देखभाल में सही टीकाकरण भी शामिल करें। यह आपको गर्भावस्था के दौरान कई प्रकार के संक्रमणों से प्रतिरक्षा प्रदान करके गर्भ के अंदर पल रहे शिशु की अच्छी सेहत और उचित विकास को सुनिश्चित करता है।

गर्मियों में त्वचा की सुरक्षा काफी अहम हो जाती है। खासकर अगर आपकी त्वचा तैलीय हो तो उसका विशेष ख्याल रखने की ज़रूरत होती है। इसके लिए पहली महत्वपूर्ण चीज़ है डाइट का ख्याल रखना, क्योंकि हम जो खातें हैं वही

वसंत ऋतु में बालों में डैंड्रफ या रूसी की समस्या सबसे अधिक होती है। ऐसे में रूसी के कारण बालों का झड़ना भी आम बात ही है। इसके लिए ज़रूरी है कि बालों का सही ढंग से उपचार हो। इन बेहद आसान घरेलू तरीकों से आप अपने बालों को डैंड्रफ मुक्त कर सकती हैं।

गर्भवती होने का निर्णय लेना किसी भी महिला के लिए जीवन का एक महत्वपूर्ण निर्णय होता है। इसके लिए ये ज़रूरी है की महिला अपने सम्पूर्ण स्वास्थ्य पर नज़र रखे । वजन स्वास्थ्य का एक ऐसा ही महत्वपूर्ण पक्ष है जिस पर ध्यान देना अत्यंत

जननम कम्युनिटी से जुड़ने के फायदे!

Join the #1 global parenting resource and start receiving the following helpful newsletter:

Join the community now!

Fill the following & enjoy perks!

Due Date or child's birthday