प्री-प्रेगनेंसी टेस्ट क्या होता है?

क्या मैं गर्भवती हूं. इसे समझने के लिए क्या मुझे किट से अभी टेस्ट करना चाहिए. वो कौन से लक्षण हैं जिससे मैं यह समझ सकूं कि मैं प्रेगनेंट हूं... ऐसे ही कई सवाल दिमाग में चल रहे होते हैं तो आईए  हम बताते हैं आपको आसान भाषा में।

इस सेक्शन में आप पढ़ेंगे :

सवाल: यदि प्रेगनेंसी के विषय में सोच रहे हैं, तो क्या ना करें?

जवाब : यदि प्रेगनेंसी के विषय में सोच रही हैं, तो किसी भी प्रकार का नशा ना करें। गर्म तासीर वाले खाद्य पदार्थों का सेवन न करें। अत्यधिक चाय और कॉफ़ी न पिएं। जंक फूड न लें। अपने वजन को नियंत्रण में रखें। बॉडी टेम्प्रेचर बढ़ाने और स्ट्रेस पैदा करने वाले कामों से बचें। अनहेल्दी लाइफ स्टाइल त्याग दें। नींद से कॉम्प्रोमाइज न करें।

सवाल : प्री-प्रेगनेंसी टेस्ट क्या होता है?

जवाब : प्री-प्रेगनेंसी टेस्ट एक प्रकार का मेडिकल टेस्ट होता है, जो कि ये पता लगाता है कि प्रेगनेंसी से पहले आप पूरी तरह स्वस्थ हैं कि नहीं। ये टेस्ट उन महिलाओं के लिए अत्यंत ज़रूरी है, जिन्होंने पहले किसी प्री-मैच्योर शिशु या फिर फिजिकली या मेंटली चैलेंज्ड शिशु को जन्म दिया हो अथवा जिनका पहले कोई गर्भपात हुआ हो।

सवाल : मैं अपनी फर्टिलिटी को कैसे बढ़ा सकती हूँ?

जवाब : आप प्राकृतिक तरीकों से इन उपायों को अपनाकर अपनी फर्टिलिटी को बढ़ा सकती हैं-

  • एंटी ऑक्सीडेंट से भरपूर फल और सब्जियां खाएं।
  • अपने भोजन में से कार्बोहाइड्रेट की मात्रा घटा दें।
  • फाइबर युक्त आहार लें।
  • शरीर से अतिरिक्त चर्बी घटाने की कोशिश करें।
  • अधिक मात्रा में प्रोटीन ग्रहण करें।
  • चाय, कॉफी, जंक फूड, नशीले पदार्थों आदि का सेवन बंद कर दें।
  • किसी अच्छे योगा एक्सपर्ट की सलाह से नियमित रूप से योग और प्राणायाम करें।
  • स्वच्छ और खुली हवा में मॉर्निंग और इवनिंग वॉक करें।
  • हेल्दी लाइफ स्टाइल अपनाएं।

सवाल : क्या कोई स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर गर्भवती होने में मेरी मदद कर सकती है?

जवाब : जी हाँ। स्त्री रोग विशेषज्ञ आपकी फर्टिलिटी को बढ़ाने में आपकी मदद कर सकती हैं। उनके द्वारा दी गई चिकित्सा, दवा और न्यूट्रिएंट्स से आपको गर्भवती होने में मदद मिल सकती है। इसलिए अगर परिवार में बड़ी-बुज़ुर्ग महिलाएं या कोई सही गाइड नहीं हैं और प्रेगनेंसी को लेकर मन में तरह-तरह के सवाल उमड़ते-घुमड़ते हों, तो बेहतर है कि आप किसी अच्छी स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर से मिलें।

सवाल : जल्दी गर्भवती होने के लिए क्या ज़रूरी है?

जवाब : अपनी पीरियड साइकिल पर ध्यान दें कि वो नियमित है या अनियमित। स्वस्थ जीवन शैली अपनाएं। तनाव से दूर रहें। एंटी ऑक्सीडेंट से भरपूर फल और सब्जियां खाएं। अपने भोजन में से कार्बोहाइड्रेट की मात्रा घटा दें। फाइबर युक्त आहार लें। शरीर से अतिरिक्त चर्बी घटाने की कोशिश करें। अधिक मात्रा में प्रोटीन ग्रहण करें। चाय, कॉफी, जंक फूड, नशीले पदार्थों आदि का सेवन बंद कर दें। पीरियड आने के 8वें दिन से 18वें दिन के बीच नियमित रूप से संबंध बनाएं। मिशनरी पोजिशन अधिक कारगर है। संबंध बनाने के बाद आधा-एक घंटे तक ना उठें।

सवाल : प्रेगनेंसी के लिए महीने में कितनी बार संबंध बनाना ज़रूरी है?

जवाब : प्रेगनेंसी के लिए यह महत्वपूर्ण नहीं है कि महीने में कितनी बार संबंध बनाएं, बल्कि महत्वपूर्ण यह है कि किस समय पर बनाएं। पीरियड आने के आठवें दिन से अठारहवें दिन के बीच संबंध बनाने से गर्भधारण की सम्भावना सबसे अधिक होती है। इसलिए इस अवधि के दौरान नियमित रूप से संबंध बनाने का प्रयास करें। मिशनरी पोजिशन अधिक कारगर है। संबंध बनाने के बाद आधा-एक घंटे तक ना उठें।

सवाल : किन लक्षणों से पहचान सकते हैं कि प्रेगनेंट होने में दिक्कतें आ सकती हैं?

जवाब : अगर आपको पीरियड संबंधी समस्याएं हैं या अनियमित पीरियड आती है या संबंध बनाते समय तकलीफ महसूस होती है या संबंध बनाने में अरुचि महसूस होती है, तो इसका मतलब है कि आपको गर्भधारण करने में दिक्कतें हो सकती हैं। ऐसी स्थिति में तुरंत किसी अच्छे स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर से मिलें।

सवाल : पुरुष किस आयु में प्रजनन करने में सबसे अधिक सक्षम होते हैं?

जवाब : पुरुष 60 वर्ष की आयु तक प्रजनन करने में सक्षम होते हैं। लेकिन फिर भी जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है, प्रजनन क्षमता कम होती चली जाती है। 40 वर्ष की उम्र तक पुरुष सबसे अधिक फर्टाइल होते हैं।

सवाल : पुरुष के पिता बन पाने की असमर्थता के क्या-क्या लक्षण हैं?

जवाब : पुरुष के पिता बनने की असमर्थता के ख़ास लक्षण पता किये जाने असंभव हैं। केवल मेडिकल टेस्ट करके ही इसका पता लगाया जा सकता है।

सवाल : क्या गर्भधारण करने में सामान्यतः 2 साल लग जाते हैं?

जवाब : कुछ जोड़ों की मंथली फर्टिलिटी बेहतरीन होती है, ऐसे में गर्भधारण में बिलकुल समय नहीं लगता है। लेकिन कुछ जोड़ों को 2 साल लग जाते हैं। यह सामान्य है।

सवाल 24: नियमित पीरियड के बावजूद प्रेगनेंट ना हो पाने के क्या-क्या कारण हो सकते हैं?

जवाब : कुछ महिलाओं को नियमित पीरियड होने के बावजूद ओव्यूलेशन की परेशानी होती है। इसके अलावा महिला का वजन बहुत अधिक होने, अंडाशय (ओवरी) का आकार अपर्याप्त होने, थाइरॉयड की समस्या होने या फिर काफी ज्यादा एक्सरसाइज करने से भी प्रेगनेंट होने में दिक्कतें आ सकती हैं।

आज ही जननम फेसबुक कम्युनिटी को ज्वाइन करें जहां हमारे एक्सपर्ट्स प्रेगनेंसी के हर पहलू पर टिप्स दे रहे हैं -यहाँ क्लिक करें 

जननम आपको सही, सटीक और उपयोगी जानकारी उपलब्ध कराने के लिए हमेशा आपके साथ हैं। लेकिन इसी के साथ आपको डॉक्टर से सलाह लेना भी ज़रूरी है।


Other articles related to this

डार्क चॉकलेट हारमोंस को नियंत्रित करके अंडाणुओं एवं शुक्राणुओं को विकसित करते हैं, बशर्ते कि चॉकलेट ...

पीरियड के बिना भी प्रेगनेंट होना संभव है। कुछ महिलाओं को नियमित रूप से पीरियड नहीं आते हैं, इसके बाव...

मेनोपॉज की दो स्थितियां होती हैं, पेरि मेनोपॉज और पोस्ट मेनोपॉज। पेरि मेनोपॉज में ओव्यूलेशन संभव है,...

अगर आप एक स्वस्थ गर्भावस्था का आश्वासन चाहती हैं तो गर्भावस्था में होने वाली देखभाल में सही टीकाकरण ...

आधुनिकता के प्रभाव में आजकल युवतियाँ 35 वर्ष कि आयु के बाद माँ बनने का निर्णय लेने लगी हैं। अनुष्का ...

जेनेटिक काउंसलिंग यानि अनुवांशिक परामर्श व्यक्तियों, परिवारों या जोड़ों को स्वास्थ्य सम्बन्धी जटिलता...

</