औषधीय गुणों की खान है गेंदा फूल

हर जगह आसानी से उपलब्ध हजारा  या गेंदा के फूल औषधीय गुणों की खान है । आयुर्वेद विशेषज्ञों की माने  तो यह बुखार ठीक करने में , इंफेक्शन दूर करने में ,रक्तस्राव रोकने में और सामान्य चोट अथवा सूजन में काफी फायदेमंद साबित होता है । इसमें हानिकारक कीटाणुओं को नष्ट करने का गुण होता है । मलेरिया कारक मच्छरों को भगाने में भी यह असरदार होता है । इतना ही नही गेंदा का फूल एंटीआक्सीडेंट्स का भी खजाना है ।

इस लेख में आप पढ़ेंगे

कान दर्द 

गेंदे के पत्तों का रस हल्का गरम करके कान में दो -तीन बूंद डालें । 

स्तनों में सूजन 

स्तनों पर गेंदे की पत्ती के रस से मालिश करें या पत्तों को पीसकर उसका लेप लगाएं ,फिर ब्लाउज पहनकर गर्म सेंक करें। 

आँखों में दर्द 

पत्तों को पीसकर टिकियानुमा बना लें । पलकें बंद करके इसे आंखों पर रखें । 

मूत्र विकार 

१० ग्राम गेंदे के पत्ते पीसकर इसके रस में मिश्री मिलाकर दिन में तीन बार पियें। पेशाब खुलकर आएगा । 

रक्त प्रदर 

फूलों का ५ -१० ग्राम रस सेवन करने से रक्त प्रदर में आराम मिलता है । फूलों के २० ग्राम चूर्ण को १० ग्राम शुद्ध घी में भूनकर सेवन करने से भी राहत मिलती है । 

फोड़े ,फुंसी ,घाव 

ब्राजील के वैज्ञानिकों ने इसमें एंटीइन्फ्लेमेटरी गन पाएं है । गेंदे के पत्ते पीसकर फोड़े -फुंसी या घाव पर २ -३ बार लगाने पर आराम मिलने लगता है । 

चोट ,मोच या सूजन 

गेंदे की जड़ ,पत्ता ,तना ,फूल और फल सबको मिलकर रस निकालें और चाटें ,मोच ,सूजन पर लगाएं तथा मालिश  करें आराम मिलेगा । 

खूनी बवासीर 

गेंदे के पत्तों  का रस निकालकर पीएं । बवासीर के रक्त से राहत मिलेगा । फूलों या पत्तों का रस पीने  से बादी बवासीर की सूजन भी ठीक होती है ।

सारांश : देश के कई हिस्सों में गेंदे के फूल की खेती की जाती है. सजावट से लेकर गेंदे के फूल का इस्तेमाल कई तरह की बीमारियों के इलाज में भी किया जाता है. गेंदे के फूल में कई ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो दर्द में आराम दिलाने का काम करते हैं. घाव भरने में भी ये कारगर औषधि की तरह प्रभावी है.

Summary: In many parts of the country, the cultivars of the lilies are cultivated. From decoration to lime flower is also used in the treatment of many diseases. There are many such elements found in the flower of the lilies that work to ease the pain. Even in wound healing is effective as effective.

आज ही जननम फेसबुक कम्युनिटी को ज्वाइन करें जहां हमारे एक्सपर्ट्स प्रेगनेंसी के हर पहलू पर टिप्स दे रहे हैं -यहाँ क्लिक करें

जननम आपको सही, सटीक और उपयोगी जानकारी उपलब्ध कराने के लिए हमेशा आपके साथ हैं। लेकिन इसी के साथ आपको डॉक्टर से सलाह लेना भी ज़रूरी है।


Other articles related to this

वसंत ऋतु में बालों में डैंड्रफ या रूसी की समस्या सबसे अधिक होती है। ऐसे में रूसी के कारण बालों का झड़...

वैसे तो सर्दियों में त्वचा को नमी देने के लिए आप मॉइस्चराइज़र का इस्तेमाल करती ही होंगी, फिर भी अगर ...

त्वचा का रूखापन सर्दियों की सबसे बड़ी समस्याओं में से एक है। त्वचा के रूखेपन को दूर रखने के लिए हम सब...

ख़ूबसूरत आवाज़ की मल्लिका लता मंगेशकर का गाया एक लोकप्रिय गीत है- मेरी आवाज़ ही पहचान है। वास्तव में...

हमारी आंखों से ही दुनिया रोशन है। इसे स्वस्थ रखेंगे तो खूबसूरत संसार देख पाएंगे। आयुर्वेद आंखों की स...

बारिश के मौसम में घर और कपड़ों की सफाई के साथ-साथ अपने शरीर और त्वचा की सफाई रखना भी बहुत महत्वपूर्ण ...

Other articles related to this

वसंत ऋतु में बालों में डैंड्रफ या रूसी की समस्या सबसे अधिक होती है। ऐसे में रूसी के कारण बालों का झड़ना भी आम बात ही है। इसके लिए ज़रूरी है कि बालों का सही ढंग से उपचार हो। इन बेहद आसान घरेलू तरीकों से आप अपने बालों को डैंड्रफ मुक्त कर सकती हैं।

वैसे तो सर्दियों में त्वचा को नमी देने के लिए आप मॉइस्चराइज़र का इस्तेमाल करती ही होंगी, फिर भी अगर आप सप्ताह या दस दिन में एक बार अपने चेहरे पर फेस मास्क का इस्तेमाल करें, तो आपकी त्वचा और भी अधिक

त्वचा का रूखापन सर्दियों की सबसे बड़ी समस्याओं में से एक है। त्वचा के रूखेपन को दूर रखने के लिए हम सब हर तरह के लोशन और क्रीम का इस्तेमाल करते हैं। फिर भी थोड़ी देर में त्वचा फिर से रूखी हो जाती है, क्योंकि

ख़ूबसूरत आवाज़ की मल्लिका लता मंगेशकर का गाया एक लोकप्रिय गीत है- मेरी आवाज़ ही पहचान है। वास्तव में आवाज़ हर व्यक्ति की पहचान होती है। ख़ासकर

हमारी आंखों से ही दुनिया रोशन है। इसे स्वस्थ रखेंगे तो खूबसूरत संसार देख पाएंगे। आयुर्वेद आंखों की सेहत के लिए कई नुस्खे सुझाता है। जैसे,

बारिश के मौसम में घर और कपड़ों की सफाई के साथ-साथ अपने शरीर और त्वचा की सफाई रखना भी बहुत महत्वपूर्ण है। बरसात के मौसम में होने वाली नमी की वजह से बहुत से लोगों को त्वचा पर दाने निकलने और रंग के दबने की शिकायत होती है, जो कि किसी भी फेस वाश या क्लींज़र से ठीक नहीं होता है।

जननम कम्युनिटी से जुड़ने के फायदे!

Join the #1 global parenting resource and start receiving the following helpful newsletter:

Join the community now!

Fill the following & enjoy perks!

Due Date or child's birthday