बच्चे करने के लिए पारिवारिक दबाव से कैसे निपटें?

सामान्य रूप में किसी न किसी रूप में विवाह के तुरंत बाद नवविवाहित के सामने परिवार और समाज के लोग बच्चे के जन्म की अपनी इच्छा को प्रकट करना शुरू कर देते हैं। अक्सर यह इच्छाएँ और फर्माइशें शादीशुदा जोड़े पर दबाव जैसी लगने लगती हैं। इस दबाव का सामना सकारात्मक रूप में करने में जननम आपको सलाह के माध्यम से मदद करते हैं।

जननम की सलाह: विवाह के बाद बच्चे का जन्म कब :

भारतीय समाज में प्रिय जन और मित्र समाज कभी-कभी अपनी मर्यादा की सीमारेखा को लांघकर बच्चे के जन्म को लेकर नवविवाहित के सामने अनेक प्रकार के सवाल रखते हैं। ऐसे  सवालों का जवाब आप इस प्रकार दे सकतीं हैं:

  1. परिवार के प्रिय जनों के सवाल का जवाब : एक नवविवाहित के सामने परिवार का हर सदस्य खुद को दादा-दादी, चाचा-बुआ आदि रिश्तों में बंधने के लिए बच्चे के जन्म की इच्छा प्रकट करने लगता है। इस स्थिति में आप उन्हें प्यार से इस बात का एहसास करवाएँ कि उन लोगों की यह जल्दबाज़ी पति-पत्नी को अनदेखी अपूर्णता का एहसास दिलवाता है। इस बात को आपके परिवार के लोग समझेंगे और वो अपनी इच्छा को आपके ऊपर दबाव के रूप में नहीं रखेंगे।
  2. बच्चों को करियर के सामने प्रमुखता देना: कुछ लोग यह समझते हैं कि आप अपने करियर के सामने बच्चे के जन्म को प्राथमिकता नहीं देतीं हैं। इन विचारों को आप बच्चे के जन्म व पालन-पोषण पर होने वाले समुचित खर्चे का एहसास करवाएँ। साथ ही यह भी बताएं कि इन खर्चों के लिए आवश्यक आय का घर में आना ज़रूरी है, जिसके लिए आपका करियर पर अतिरिक्त ध्यान देना ज़रूरी है।
  3. बच्चे का जन्म और उम्र का संबंध: समाज में बच्चे को जन्म देने की सही उम्र क्या है इस बारे में लोगों के विचार अभी रूढ़िवादिता में ही अटके हैं। ऐसे रूढ़िवादी विचारों को आधुनिक तकनीक व चिकित्सा की नवीनतम सुविधाओं का ब्यौरा देकर अपनी जागरूकता से आप संतुष्ट कर सकतीं हैं।
  4. अत्यधिक चिंता करने वाले शुभचिंतक: हमारे आस-पास कुछ ऐसे शुभचिंतक होते हैं जिनका काम हमेशा हमारे जीवन में घटने वाली घटनाओं की चिंता करना ही होता है। इन्हें हर समय इनके सवाल के विस्तार में जवाब चाहिए। इन शुभचिंतकों को आप स्पष्ट रूप से उनकी सीमा रेखा बता दें। इस समय , “आप अपने जीवन का हर निर्णय अपने निश्चित समय और अपनी सुविधानुसार लेंगी” उनके हर संभावी प्रश्न का एकमात्र जवाब हो सकता है।
  5. क्योंकि बच्चा होना ज़रूरी है: कुछ लोग यह भी मानते हैं कि शादी के बाद सभी जोड़े बच्चे पैदा करते हैं, इसलिए विवाह होते ही आपको भी यह करना चाहिए। इन लोगों को आप बता सकतीं हैं कि ज़रूरी नहीं जो सब काम करें आप भी वो ही करें और वैसे ही करें। यह एक निजी फैसला है जो आप समय से ही करेंगी।

इसके अलावा भी बहुत सवाल होते हैं जिनका सामना पति-पत्नी, परिवार व समाज की ओर से बच्चे के जन्म को लेकर करते हैं। इन सभी सवालों के जवाब आप अपनी समझदारी और हिम्मत से देकर इस फैसले को समय व सुविधानुसार ले सकतीं हैं।

Summary: “When are you going to have kids?” is a question faced by every young couple. In this situation, rather than feeling overwhelmed, put a smile on your face and give a suitable answer according to the situation. Once people understand that you will embrace parenthood only when you feel appropriate, they will stop pressuring you for the same.

सारांश:  "आप बच्चे कब पैदा कर रहे हैं?" हर युवा जोड़े के सामने एक सवाल है। इस स्थिति में अभिभूत महसूस करने के बजाय अपने चेहरे पर एक मुस्कान डालें और स्थिति के अनुसार उपयुक्त उत्तर दें। एक बार जब लोग समझ जाते हैं कि आप पितृत्व को तभी ग्रहण करेंगे जब आप उचित महसूस करेंगे, वे आप पर उसी के लिए दबाव डालना बंद कर देंगे।

ये भी पढ़े :

आज ही जननम फेसबुक कम्युनिटी को ज्वाइन करें जहाँ\हमारे एक्सपर्ट्स प्रेगनेंसी के हर पहलु पर टिप्स दे रहे है - यहाँ क्लिक करें

जननम आपको सही, सटीक और उपयोगी जानकारी उपलब्ध कराने के लिए हमेशा आपके साथ हैं, लेकिन इसी के साथ आपको डॉक्टर से सलाह लेना भी ज़रूरी है।


Other articles related to this

भारतीय परंपरा में हल्दी का प्रयोग घर के हर शुभ काम में होता है। विवाह में लगने वाली हल्दी से लेकर रस...

पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम या संक्षिप्त रूप मे पीसीओएस एक विकार है जो महिला सेक्स हार्मोन में असंतु...

भारतीय रसोई में वो सभी मसाले उपलब्ध होते हैं जो न केवल भोजन का स्वाद बढ़ाते हैं बल्कि विभिन्न प्रकार ...

सर्दियों में तापमान के गिरने के साथ-साथ शरीर और त्वचा में बहुत से बदलाव आने लगते हैं। जहां त्वचा हमे...

संभवतः आयुर्वेद इस धरती का सबसे पुराना मेडिकल साइंस है। लेकिन विकास की दौड़ में भारत के पीछे होने की...

वसंत ऋतु के आते ही जहाँ पेड़ों पर नए फूल और पत्तियों का आगमन होता है, वहीं सर्दियों की मुश्किलों से भ...

Other articles related to this

भारतीय परंपरा में हल्दी का प्रयोग घर के हर शुभ काम में होता है। विवाह में लगने वाली हल्दी से लेकर रसोई में रखी हुई मसालेदानी तक में हल्दी का स्थान महत्त्वपूर्ण होता है। सामान्य रूप से हल्दी को पाउडर के अतिरिक्त गांठ और कच्ची हल्दी के

पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम या संक्षिप्त रूप मे पीसीओएस एक विकार है जो महिला सेक्स हार्मोन में असंतुलन का कारण बनता है। यह असंतुलन कई प्रकार के नकारात्मक लक्षण पैदा कर सकता है और एक महिला की प्रजनन क्षमता को प्रभावित

भारतीय रसोई में वो सभी मसाले उपलब्ध होते हैं जो न केवल भोजन का स्वाद बढ़ाते हैं बल्कि विभिन्न प्रकार से सेहत के लिए भी उपयोगी सिद्ध होते हैं। ऐसा ही एक मसाला है दालचीनी। गर्भवती महिला के लिए दालचीनी कितनी उपयोगी सिद्ध हो सकती

सर्दियों में तापमान के गिरने के साथ-साथ शरीर और त्वचा में बहुत से बदलाव आने लगते हैं। जहां त्वचा हमेशा खिंची-खिंची रहती है, वहीं बालों में अत्यधिक रूखापन आ जाता है। जिनके बालों की प्रकृति पहले से ही शुष्क होती

संभवतः आयुर्वेद इस धरती का सबसे पुराना मेडिकल साइंस है। लेकिन विकास की दौड़ में भारत के पीछे होने की वजह से दुनिया ने इस ज्ञान को चुराया तो बहुत, लेकिन इसे स्वीकार्यता देने में हमेशा संकोच किया। लेकिन अब भारत की बढ़ती ताकत

वसंत ऋतु के आते ही जहाँ पेड़ों पर नए फूल और पत्तियों का आगमन होता है, वहीं सर्दियों की मुश्किलों से भी निजात मिलती है। वैसे तो इस मौसम में बालों को किसी विशेष देखभाल की आवश्यक्ता नहीं होती है, फिर भी यदि मौसम के अनुसार देखभाल

जननम कम्युनिटी से जुड़ने के फायदे!

Join the #1 global parenting resource and start receiving the following helpful newsletter:

Join the community now!

Fill the following & enjoy perks!

Due Date or child's birthday