अपनी आंखों को ख़ूबसूरत और स्वस्थ कैसे बनाएं?

हमारी आंखों से ही दुनिया रोशन है। इसे स्वस्थ रखेंगे तो खूबसूरत संसार देख पाएंगे। आयुर्वेद आंखों की सेहत के लिए कई नुस्खे सुझाता है। जैसे,

  1. आंवला, नींबू, संतरा और अमरूद जैसे विटामिन सी युक्त आहार खाने से आंखों की रोशनी तेज़ होती है।
  2. आंखों को साफ़ और सफ़ेद करने के लिए ठंडे पानी का इस्तेमाल सर्वोत्तम माना जाता है। ठंडे पानी से दिन में कई बार आंखें धोने से वे चमकदार बनती हैं और उनकी रोशनी तेज़ होती है।
  3. सूर्योदय से पहले उठकर मुंह में पानी भरकर बंद आंखों पर ठंडे पानी के छींटे मारने से आंखें साफ़ होती हैं और स्वस्थ रहती हैं।

आइए हम आपको बताते हैं कि इन सामान्य बातों के अलावा आप और क्या- क्या कर सकती हैं, जिससे आपकी आंखें स्वस्थ और खूबसूरत बनी रहें।

  1. आंखों की ऐसे करें सफाई
  • आंवले का पानी बनाकर धोने, या गुलाबजल डालने से आंखें स्वस्थ रहती है।
  • जब भी आंखों की धुलाई करें, उन्हें रगड़ें नहीं, बल्कि हल्के छींटे मारें।
  • 40 मिली लीटर गुलाब अर्क में आधा ग्राम गुलाबी फिटकरी डालकर दिन में तीन बार इसकी 3-3 बूंदें आंखों में डालें और कनपटी पर गीले चूने का एक इंच लेप कर दें।
  • नीम के उबाले पानी से आंखों को धोएं।
apanee aankhon ko khoobasoorat aur svasth kaise banaen
apanee aankhon ko khoobasoorat aur svasth kaise banaen
  1. आंखों के लिए ये आहार हैं अहम
  • सुबह कम से कम एक आंवला नियमित रूप से खाएं। ऐसा डॉक्टर भी कहते हैं क्योंकि इसमें विटामिन सी है।
  • पालक और दूसरी पत्तेदार सब्जियों में एंटी-ऑक्सीडेंट, जियेक्सेंथिन और लुटिन की मौजूदगी के कारण यह आंखों को स्वस्थ बनाते हैं।
  • तांबे के बर्तन में पानी को रात में रखकर सुबह उसका सेवन करें।
  • ऑलिव ऑयल आयुर्वेदिक रेमेडी है। इसमें मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट आंखों को कई प्रकार की बीमारियों से बचाते हैं, इसे खाने में शामिल करें।
  • एक गिलास पानी में एक नींबू को निचोड़कर नियमित रूप से पीना नेत्र-ज्योति के लिए काफी फायदेमंद है।
  • गाजर, टमाटर समेत हरी सब्जियों की तरह शक्करकंदी भी विटामिन ए, विटामिन सी, फाइबर, मैंगनीज और पोटैशियम का अच्छा स्रोत है। इन्हें ज़रूर खाएं।
  • आधा चम्मच मक्खन, आधा चम्मच पिसी मिश्री और थोड़ी सी पिसी काली मिर्च मिलाकर चाटें। कच्चे नारियल के 2-3 टुकड़े खूब अच्छी तरह चबाकर खा लें।
  • दालचीनी वाली चाय पीना भी लाभकारी है। यह आंखों की मांसपेशियों को रिलैक्स करती है।
  1. आंखों के लिये प्राणायाम
  • आंखों की अच्छी सेहत के लिए कई तरह के व्यायाम और प्राणायाम भी किए जा सकते हैं, लेकिन गर्भवती महिलाएं बिना किसी योगा एक्सपर्ट की सलाह लिए ये व्यायाम और प्राणायाम न करें। लेकिन आंखों के हल्के एक्सरसाइज़ जैसे, बार-बार पलकें झपकाना और चारों तरफ पुतलियों को घुमाना उनके लिए अनुशंसित है।
  • बच्चे को जन्म दे चुकी मांओं को अपनी आंखों की अच्छी सेहत के लिए अनुलोम-विलोम प्राणायाम नियमित रूप से करना चाहिए। साथ ही, वे भुजंगासन एवं सर्वांगासन जैसे आसन भी ट्राइ कर सकती हैं।
apanee aankhon ko khoobasoorat aur svasth kaise banaen
  1. ऐसे करें आंखों की मालिश
  • आंखों के चारों तरफ कोई क्रीम या सरसों का तेल लगाकर मालिश करें।
  • कनपटी पर गाय के घी की हल्के हाथ से रोजाना कुछ देर मसाज करें।
  • गर्मी के दिनों में पैरों के तलुओं में मेहंदी का लेप लगा सकती हैं।
  • शुद्ध घी और सरसों के तेल की मालिश भी कर सकती हैं।
apanee aankhon ko khoobasoorat aur svasth kaise banaen
  1. ऐसे करें आंखों की मालिश
  • आंखों के चारों तरफ कोई क्रीम या सरसों का तेल लगाकर मालिश करें।
  • कनपटी पर गाय के घी की हल्के हाथ से रोजाना कुछ देर मसाज करें।
  • गर्मी के दिनों में पैरों के तलुओं में मेहंदी का लेप लगा सकती हैं।
  • शुद्ध घी और सरसों के तेल की मालिश भी कर सकती हैं।
  1. आंखों में संक्रमण होने पर क्या करें

एक लीटर पानी में दारू हल्दी को डालकर क्वाथ बनाएं, जब आधा बच जाए तो इसे साफ कपड़े से छान लें। फिर इसमें शुद्ध शहद मिलाकर फिल्टर पेपर से छान लें। इसके बाद इसे शीशी में भरकर रख लें। फिर इसमें तुत्थ भस्म मिलाएं। इससे नेत्र रोग नहीं होंगे। इसकी एक-दो बूंदें आंखों में डालने से राहत मिल सकती है।

apanee aankhon ko khoobasoorat aur svasth kaise banaen

जननम कहे हां

  • सर्दियों में आंखों को गुनगुने पानी से धोना
  • पैरों में घी, तेल की मालिश

जननम कहे ना

  • रगड़कर आंखें साफ करना
  • बिना डॉक्टरी सलाह आई ड्रॉप्स का इस्तेमाल

सारांश : हमारी इंद्रियां हमारे दैनिक जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं, इसलिए उनकी देखभाल करना महत्वपूर्ण है। आंखें हमारे भीतर की दुनिया और हमारे आसपास की दुनिया के बीच का सेतु हैं। यहां बताये गये घरेलू उपचार वास्तव में आपकी आँखों को स्वस्थ और ताज़ा रखने में आपकी मदद करेंगे।

Summary: Our senses play an important role in our daily lives, so it is important to take care of them. Eyes are the bridge between our inner world and the world around us. The home remedies described here will really help you keep your eyes healthy and fresh.

आज ही जननम फेसबुक कम्युनिटी को ज्वाइन करें जहां हमारे एक्सपर्ट्स प्रेगनेंसी के हर पहलू पर टिप्स दे रहे हैं - यहाँ क्लिक करें

जननम आपको सही, सटीक और उपयोगी जानकारी उपलब्ध कराने के लिए हमेशा आपके साथ हैं। लेकिन इसी के साथ आपको डॉक्टर से सलाह लेना भी ज़रूरी है।


Other articles related to this

वसंत ऋतु में बालों में डैंड्रफ या रूसी की समस्या सबसे अधिक होती है। ऐसे में रूसी के कारण बालों का झड़...

वैसे तो सर्दियों में त्वचा को नमी देने के लिए आप मॉइस्चराइज़र का इस्तेमाल करती ही होंगी, फिर भी अगर ...

त्वचा का रूखापन सर्दियों की सबसे बड़ी समस्याओं में से एक है। त्वचा के रूखेपन को दूर रखने के लिए हम सब...

बारिश के मौसम में घर और कपड़ों की सफाई के साथ-साथ अपने शरीर और त्वचा की सफाई रखना भी बहुत महत्वपूर्ण ...

तैलीय बालों को अतिरिक्त देखभाल की आवश्यकता होती है, क्योंकि वे धोने के एक दिन बाद ही चिकने हो जाते ह...

ख़ूबसूरत आवाज़ की मल्लिका लता मंगेशकर का गाया एक लोकप्रिय गीत है- मेरी आवाज़ ही पहचान है। वास्तव में...

Other articles related to this

वसंत ऋतु में बालों में डैंड्रफ या रूसी की समस्या सबसे अधिक होती है। ऐसे में रूसी के कारण बालों का झड़ना भी आम बात ही है। इसके लिए ज़रूरी है कि बालों का सही ढंग से उपचार हो। इन बेहद आसान घरेलू तरीकों से आप अपने बालों को डैंड्रफ मुक्त कर सकती हैं।

वैसे तो सर्दियों में त्वचा को नमी देने के लिए आप मॉइस्चराइज़र का इस्तेमाल करती ही होंगी, फिर भी अगर आप सप्ताह या दस दिन में एक बार अपने चेहरे पर फेस मास्क का इस्तेमाल करें, तो आपकी त्वचा और भी अधिक

त्वचा का रूखापन सर्दियों की सबसे बड़ी समस्याओं में से एक है। त्वचा के रूखेपन को दूर रखने के लिए हम सब हर तरह के लोशन और क्रीम का इस्तेमाल करते हैं। फिर भी थोड़ी देर में त्वचा फिर से रूखी हो जाती है, क्योंकि

बारिश के मौसम में घर और कपड़ों की सफाई के साथ-साथ अपने शरीर और त्वचा की सफाई रखना भी बहुत महत्वपूर्ण है। बरसात के मौसम में होने वाली नमी की वजह से बहुत से लोगों को त्वचा पर दाने निकलने और रंग के दबने की शिकायत होती है, जो कि किसी भी फेस वाश या क्लींज़र से ठीक नहीं होता है।

तैलीय बालों को अतिरिक्त देखभाल की आवश्यकता होती है, क्योंकि वे धोने के एक दिन बाद ही चिकने हो जाते हैं। स्कैल्प को स्वस्थ रखने के लिए घरेलू उपचार के साथ उचित हेयरकेयर सबसे ज़रूरी है। लेकिन इसके लिए बाज़ार के केमिकल-युक्त प्रोडक्ट का इस्तेमाल करने के बजाय घर में ही प्राकृतिक रूप से तैयार चीज़ों का उपयोग करें, तो बेहतर।

ख़ूबसूरत आवाज़ की मल्लिका लता मंगेशकर का गाया एक लोकप्रिय गीत है- मेरी आवाज़ ही पहचान है। वास्तव में आवाज़ हर व्यक्ति की पहचान होती है। ख़ासकर

जननम कम्युनिटी से जुड़ने के फायदे!

Join the #1 global parenting resource and start receiving the following helpful newsletter:

Join the community now!

Fill the following & enjoy perks!

Due Date or child's birthday