जायफल के फ़ायदे और उपयोग

पिछले दिनों हर जगह करीना कपूर की प्रेग्नेंसी की खबर फैली हुई थी। हर कोई यह जानना चाहता था कि प्रेग्नेंसी में स्वयं को और अपने बच्चे को स्वस्थ रखने के लिए वे क्या खाती हैं और किस प्रकार के व्यायाम करतीं हैं। एक पत्रिका में इस संबंध में एक लेख देखा जिसमें उन्होनें एक मशहूर डाइटीशियन के हवाले से कहा था कि प्रेग्नेंसी में उन्होनें जायफल का भी उपयोग किया था। हो सकता है आप में से कुछ उनकी बातों से सहमत न हों। जननम आपकी मदद के लिए गर्भावस्था में जायफल के लाभ और उसके विभिन्न उपयोगों की जानकारी देते हैं।

वीडियो में देखें -

अधिकतम धारणा यह है कि जायफल का सेवन गर्भावस्था में वर्जित है। इस संबंध में आपको बता दें कि आयुर्वेद में आधा से एक ग्राम जायफल का सेवन सुरक्षित माना गया है। इस प्रकार यदि आप चुटकी भर जायफल का पाउडर अपनी डाइट में शामिल कर लेतीं हैं तो आपको निम्न लाभ मिल सकते हैं:

पेट कि तकलीफ़ों में आराम

जायफल पचने में आसान होने के कारण पेट संबंधी तकलीफ़ों जैसे अफ़ारा होना, अपच होना, कब्ज आदि परेशानियों में आराम देता है।

मस्तिष्क को ताकत

जायफल विटामिन बी और फोलिक एसिड से भरपूर होने के कारण मस्तिष्क की नसों को ताकत और मजबूती देता है। इसी के साथ इसके सेवन से बालों का झड़ना भी कम होते हुए एक समय बाद रुक जाता है।

शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता

एंटी ऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर होने के कारण जायफल के सेवन से शरीर में लाल रक्त कणों की वृद्धि होती है। इससे न केवल शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता में विकास होता है बल्कि शरीर में थकान की कमी होती है और शरीर ऊर्जावान भी रहता है

हड्डियों व दांतों का स्वास्थ्य

जायफल में मैग्निशियम भरपूर होता है इस कारण इसके सेवन से शरीर की हड्डियों में मजबूती और दांतों का स्वास्थ्य ठीक रहता है।

मांसपेशियों में दर्द

जायफल का तेल, मांसपेशियों विशेषकर पैरों की मांसपेशियों में कमजोरी और दर्द में तुरंत आराम देता है।

गर्भावस्था में जायफल का उपयोग कैसे करें

गर्भावस्था में जायफल का चुटकी भर सेवन करके विभिन्न परेशानियों से निजात पा सकतीं हैं। इसके लिए आप जायफल को निम्न प्रकार से ले सकतीं हैं:

  1. गाजर-जायफल जूस :
    गाजर विटामिन ए, के और बी6, फाइबर, मैग्निशियम व पोटेशियम से भरपूर होती है। गाजर को उबाल कर उसे छान कर जूस निकाल लें। स्वादानुसार नमक और चुटकी भर जायफल के साथ यह एनर्जी ड्रिंक आपकी छोटी-छोटी भूख को तुरंत शांत कर सकता है।
  2. केसर-जायफल दूध:
    एक कप गुनगुने दूध में दो धागे केसर और चुटकी भर जायफल रात को सोने से पहले लें और निश्चिंत नींद लेकर शरीर को आराम दें सकतीं हैं।
  3. एनर्जी खिचड़ी:
    मूंग दाल-चावल की खिचड़ी के लिए स्वादानुसार नमक के साथ हल्दी-जायफल बराबर मात्रा में लेकर एक पौष्टिक डिश तैयार हो सकती है।
  4. वेजीटेबल स्ट्यू:
    मौसमी सब्जियों को अच्छी तरह धो कर उबाल लें। अब इसमें चौथाई चम्मच घी और हिंग-ज़ीरे का छौंक लगा लें। स्वादानुसार नमक और चुटकी भर जायफल मिला लें। आपका पौष्टिक स्ट्यू तैयार है।
  5. नारियल-जायफल लड्डू:
    ताज़ा सूखा घिसा हुआ नारियल के साथ उसकी आधी मात्रा में सफ़ेद तिल भून कर एक बड़े चम्मच के साथ अच्छी तरह से कड़ाही में भून लें। अब चुटकी भर जायफल मिलाते हुए, गीले हाथ से इस सामग्री का लड्डू बना लें। हवाबन्द डिब्बे में रख दें और जब भी भूख लगे, खा कर खुद को तरोताज़ा महसूस कर सकतीं हैं।

अति सर्वत्र वर्जयेत के नियम को ध्यान में रखते हुए जायफल का सेवन करें और स्वस्थ रहें।

Summary: Nutmeg is considered as energetic and nutritious herb. In Ayurveda, ½ to 1 gram of nutmeg per day is deemed to be safe for pregnant women. You can take this as powder or in oil form to ease the various health issues in general as well as during pregnancy.

सारांश :  जायफल को ऊर्जावान और पौष्टिक जड़ी बूटी के रूप में माना जाता है। आयुर्वेद में प्रतिदिन ½ से 1 ग्राम जायफल गर्भवती महिलाओं के लिए सुरक्षित माना जाता है। सामान्य रूप से गर्भावस्था के दौरान आप विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं को कम करने के लिए इसे पाउडर या तेल के रूप में ले सकते हैं।

आज ही जननम फेसबुक कम्युनिटी को ज्वाइन करें जहा हमारे एक्सपर्ट्स प्रेगनेंसी के हर पहलु पर टिप्स दे रहे है - यहाँ क्लिक करें
जननम आपको सही, सटीक और उपयोगी जानकारी उपलब्ध कराने के लिए हमेशा आपके साथ हैं। लेकिन इसी के साथ आपको डॉक्टर से सलाह लेना भी ज़रूरी है।


Other articles related to this

भारतीय परंपरा में हल्दी का प्रयोग घर के हर शुभ काम में होता है। विवाह में लगने वाली हल्दी से लेकर रस...

गर्भावस्था का समय वह होता है जब एक स्त्री एक स्वस्थ और प्रसन्न शिशु को जन्म देने के लिए पौष्टिक व ला...

आप अपने पहले ट्राईमेस्टर (प्रेगनेंसी के नौ महीनों के पहले तीन महीने) के आखिर तक पहुँच रही हैं और आपक...

गर्भावस्था के दौरान किसी भी रूप में नारियल और मिश्री का सेवन करना काफी लाभकारी होता है। इनमें कई विट...

पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम या संक्षिप्त रूप मे पीसीओएस एक विकार है जो महिला सेक्स हार्मोन में असंतु...

भारतीय रसोई में वो सभी मसाले उपलब्ध होते हैं जो न केवल भोजन का स्वाद बढ़ाते हैं बल्कि विभिन्न प्रकार ...

Other articles related to this

भारतीय परंपरा में हल्दी का प्रयोग घर के हर शुभ काम में होता है। विवाह में लगने वाली हल्दी से लेकर रसोई में रखी हुई मसालेदानी तक में हल्दी का स्थान महत्त्वपूर्ण होता है। सामान्य रूप से हल्दी को पाउडर के अतिरिक्त गांठ और कच्ची हल्दी के

गर्भावस्था का समय वह होता है जब एक स्त्री एक स्वस्थ और प्रसन्न शिशु को जन्म देने के लिए पौष्टिक व लाभकारी भोजन और खाद्य पदार्थ ही लेना पसंद करती है। गर्भावस्था की तीसरी

आप अपने पहले ट्राईमेस्टर (प्रेगनेंसी के नौ महीनों के पहले तीन महीने) के आखिर तक पहुँच रही हैं और आपका शरीर अब बदलते हुए हॉर्मोन स्तरों के साथ एडजस्ट हो रहा है। तीसरे महीने के अंत तक आपके बच्चे का पूरा विकास हो चुका है।

गर्भावस्था के दौरान किसी भी रूप में नारियल और मिश्री का सेवन करना काफी लाभकारी होता है। इनमें कई विटामिन, मिनरल्स और अमीनो एसिड होते हैं जो गर्भावस्था में लाभकारी माने जाते हैं। मिश्री चीनी के मुकाबले

पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम या संक्षिप्त रूप मे पीसीओएस एक विकार है जो महिला सेक्स हार्मोन में असंतुलन का कारण बनता है। यह असंतुलन कई प्रकार के नकारात्मक लक्षण पैदा कर सकता है और एक महिला की प्रजनन क्षमता को प्रभावित

भारतीय रसोई में वो सभी मसाले उपलब्ध होते हैं जो न केवल भोजन का स्वाद बढ़ाते हैं बल्कि विभिन्न प्रकार से सेहत के लिए भी उपयोगी सिद्ध होते हैं। ऐसा ही एक मसाला है दालचीनी। गर्भवती महिला के लिए दालचीनी कितनी उपयोगी सिद्ध हो सकती

जननम कम्युनिटी से जुड़ने के फायदे!

Join the #1 global parenting resource and start receiving the following helpful newsletter:

Join the community now!

Fill the following & enjoy perks!

Due Date or child's birthday