गर्मियों में बच्चे को कैसे रखें सुरक्षित?

गर्मियों के दिनों में सूरज अपनी चरम सीमा पर होता है- ऐसे में एक नई माँ के रूप में, आप गर्मी के दिनों में अपने बच्चे की सुरक्षा के बारे में अधिक चिंतित हो सकती हैं। गर्मियों में देखभाल करने व धूप के दुष्प्रभाव से बचने के लिए कुछ ज़रूरी जानकारी ख़ास आपके लिए:

गर्मियों में बच्चे को कैसे रखें सुरक्षित

1. सही कपड़ों का चुनाव करें

यदि आप घर के अंदर हैं, तो अपने शिशु को हल्के रंग के ढीले-फिटिंग वाले सूती कपड़ें पहनाएं जो पसीने को अच्छे से सोखें।

2. तेज़ धूप में बाहर ना निकलें

अपने शिशु के साथ गर्मियों के दिनों में सुबह 10 से 2 बजे की अवधि के पहले या बाद में बाहर निकलने की योजना बनाएं।

3. वायुसंचार का ध्यान रखें

किसी ग़र्म कमरे या बंद कार में अपन शिशु को नहीं छोड़ें।

4. सीधी धूप से बचाव करें

अपने शिशु को सूर्य की हानिकारक किरणों से बचाने के लिए पार्क या बाहर जाने पर किसी पेड़, छतरी या छत की छाँव में खड़े हों

5. शरीर में पानी की कमी ना होने दें

6 महीने से छोटे शिशुओं को समय से स्तनपान कराएं जिससे उनका शरीर निर्जलित ना हो।


गर्मियों में बच्चे को कैसे रखें सुरक्षित
गर्मियों में बच्चे को कैसे रखें सुरक्षित

जननम कहे ना:

डॉक्टर की सलाह के बिना शिशु पर सनस्क्रीन का प्रयोग

वातानुकूलित परिवेश में से एकदम से धूप में निकलना

सारांश : ग्रीष्मकाल के दौरान एक नवजात शिशु का नाजुक शरीर काफी कमजोर होता है, विशेष रूप से सनबर्न या हीट स्ट्रोक के परिणामस्वरूप तेज बुखार आ सकता है और सांसें तेजी से चल सकती है। यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि गर्म दिनों में शिशु ठंडा और संरक्षित रहे।

Summary: During the summers, the delicate body of a newborn is very weak, especially as a result of sunburn or heat stroke, high fever can occur and breath can move fast. It is important to ensure that the baby is cold and protected in hot days.


Other articles related to this

नवजात शिशु सबको प्यारे लगते हैं और इसलिए हम चाहते हैं कि वह हमेशा स्वस्थ रहें। मगर, गैस की समस्या लग...

गर्भावस्था के नौ महीने और प्रसव के बाद महिलाओं के शरीर में कई बदलाव आते हैं। इन 9 महीनों के दौरान गर...

कुलथी दाल दूसरी आम दालों की तरह ही होती है, लेकिन इसके गुण जानकर आप हैरान रहे जाएंगे। इसके औषधीय गुण...

नटखट मुस्कुराते बच्चों को गोद में बैठाकर खाना खिलाना हर माँ का पसंदीदा काम होता है। जन्म के बाद से ह...

2 साल से 10 साल तक के बच्चों की त्वचा और बाल सबसे अधिक सर्दियों के मौसम में प्रभावित होते हैं। खेलने...

बच्चों की त्वचा इतनी नाज़ुक होती है कि उसे छूने में भी डर लगता है कि कहीं कुछ परेशानी ना हो जाए। फिर ...

Other articles related to this

नवजात शिशु सबको प्यारे लगते हैं और इसलिए हम चाहते हैं कि वह हमेशा स्वस्थ रहें। मगर, गैस की समस्या लगभग हर नवजात शिशु को परेशान करती है। दरअसल नवजात शिशु अपने आहार के लिए पूर्णतः दूध पर ही निर्भर होता है। दूध पीने

गर्भावस्था के नौ महीने और प्रसव के बाद महिलाओं के शरीर में कई बदलाव आते हैं। इन 9 महीनों के दौरान गर्भवती को अपना खास ख्याल रखना होता है। शिशु होने के बाद प्रसूता काफी कमजोर हो जाती है और उसे

कुलथी दाल दूसरी आम दालों की तरह ही होती है, लेकिन इसके गुण जानकर आप हैरान रहे जाएंगे। इसके औषधीय गुणों के बारे में कम ही लोगों को पता है। अन्य दालों की तुलना में कुलथी दाल में पोषक तत्वों का भंडार होता है। इसमें 25 प्रतिशत

नटखट मुस्कुराते बच्चों को गोद में बैठाकर खाना खिलाना हर माँ का पसंदीदा काम होता है। जन्म के बाद से ही नन्हा शिशु अपने भोजन के लिए माँ के स्तन-दूध पर ही निर्भर होता है। लेकिन जब शिशु जब चार-पाँच माह का हो जाता है तब माँ की यह

2 साल से 10 साल तक के बच्चों की त्वचा और बाल सबसे अधिक सर्दियों के मौसम में प्रभावित होते हैं। खेलने-कूदने और स्कूल जाने के कारण इन बच्चों को सबसे अधिक धूल-मिट्टी और प्रदूषण का सामना करना पड़ता है। इस कारण उनके बाल

बच्चों की त्वचा इतनी नाज़ुक होती है कि उसे छूने में भी डर लगता है कि कहीं कुछ परेशानी ना हो जाए। फिर सोचिए कि उसकी त्वचा पर कोई केमिकल युक्त स्क्रब का इस्तेमाल आप कैसे कर सकती हैं?

जननम कम्युनिटी से जुड़ने के फायदे!

Join the #1 global parenting resource and start receiving the following helpful newsletter:

Join the community now!

Fill the following & enjoy perks!

Due Date or child's birthday