इन घरेलू तरीकों से बच्चों को दिलाएं जुंओं से छुटकारा

जब तक बच्चा घर पर अपनी मां के साये में रहता है, तब तक मां अपने बच्चे को हर प्रकार के संक्रमण और गंदगी से बचा कर रखती है, लेकिन जब बच्चा बड़ा होकर दूसरे बच्चों के साथ खेलना शुरू करता है, तो उसको दूसरे बच्चों से कई प्रकार क संक्रमण लग जाते हैं। इनमें से एक बहुत आम संक्रमण हैं सिर में जुंएं होना। जहां बच्चे के सिर में एक जूँ ने प्रवेश किया, समझ जाइये कि दिन-प्रतिदिन उसका परिवार सिर में बढ़ता ही जाएगा। जननम से जानिये कैसे घरेलु उपाय से दिलायें जुंओं से छुटकारा।

बच्चों में इतना धीरज नहीं होता है कि वो शांत होकर अपने सिर से जूं निकलवा लें। इसके लिए किसी न किसी जूं-नाशक दवा या शैम्पू का प्रयोग करना ही पड़ता है, जो कि स्वास्थ्य के लिए बहुत हानिकारक होता है, क्योंकि उनमें कीटनाशक मिले होते हैं।

तो फिर ऐसा क्या किया जाए कि जूं भी सिर से निकल जाएं और आपके बच्चे के स्वास्थ्य को भी कोई नुकसान ना पहुंचे?

इसके लिए आप इन बेहद आसान उपायों से बच्चे के सिर से सभी जुएं और उनके अण्डों को ख़त्म कर सकती हैं-

(1) लहसुन की 8-10 कलियां लेकर उसमें नींबू का रस मिला कर पीस लें और एक गाढ़ा पेस्ट बना लें। इस मिश्रण को बच्चे के सिर की जड़ों में लगा कर आधे घंटे तक छोड़ दें। बाद में सिर को गुनगुने पानी से धो दें। ऐसा आप हफ्ते में तीन बार करें। इतने में ही जुंओं से छुटकारा पा जायेंगे।

इन घरेलू तरीकों से बच्चों को दिलाएं जुंओं से छुटकारा

(2) बच्चे के बालों की जड़ों में पेट्रोलियम जेली की मोटी-मोटी परतें लगा कर उसको शावर कैप पहना दें और इसको पूरी रात रहने दें। सुबह बालों में कोई जैतून या नारियल का तेल लगा कर बारीक कंघी से सिर को जड़ों से सिरे तक काढ़ें। आप देखेंगी कि मरी हुई जुंएं और उनके अंडे आसानी से बाहर निकल जाएंगे। बाद में गुनगुने पानी से सिर को धो दें।

इन घरेलू तरीकों से बच्चों को दिलाएं जुंओं से छुटकारा

(3) नीम के तेल में तारपीन का तेल और टी ट्री ऑयल मिला कर जड़ों पर अच्छी तरह से लगाकर पूरी रात के लिए छोड़ दें। अगले दिन बारीक कंघी से काढ़ें। मरी हुई जुंएं बाहर आ जाएंगी।

इन घरेलू तरीकों से बच्चों को दिलाएं जुंओं से छुटकारा

जननम कहे हां:

  • घरेलू उपायों से ही पाएं जुंओं से छुटकारा
  • उपचार के बाद शावर कैप का इस्तेमाल
  • एक साल से अधिक उम्र वाले बच्चे पर इस्तेमाल करें

जननम कहे ना:

  • बारीक कंघी का बार-बार इस्तेमाल
  • उपचार के समय माँ के खुले बाल
  • 0 से एक वर्ष तक के बच्चे पर इस्तेमाल


इन घरेलू तरीकों से बच्चों को दिलाएं जुंओं से छुटकारा

सारांश : जुंओं से छुटकारा पाने  के लिए बाजार में बहुत सारे शैंपू हैं, लेकिन उन सभी में कुछ न कुछ मात्रा में कीटनाशक ज़रूर होते हैं। इसलिए अपने बच्चे के सिर पर इन कीटनाशक-युक्त शैम्पुओं का उपयोग करने के बजाय आपको ऐसे आसान घरेलू उपाय अपनाने चाहिए, जो कि आपके बच्चों के लिए सबसे अच्छे जूँ फ़ाइटर होते हैं।

Summary: There are many shampoos in the market to get rid of lice, but they all contain some amount of pesticides. So instead of using these pesticide-containing shampoos on your baby's head, you should adopt easy home remedies that are the best lice fighters for your children.

यह भी पढ़ें :-

आज ही जननम फेसबुक कम्युनिटी को ज्वाइन करें जहां हमारे एक्सपर्ट्स प्रेगनेंसी के हर पहलू पर टिप्स दे रहे हैं - यहाँ क्लिक करें

जननम आपको सही, सटीक और उपयोगी जानकारी उपलब्ध कराने के लिए हमेशा आपके साथ हैं। लेकिन इसी के साथ आपको डॉक्टर से सलाह लेना भी ज़रूरी है।

 


Other articles related to this

जब एक बच्चा इस दुनिया में आता है तो वह अपने माता-पिता के जीवन में खुशियों का पिटारा लेकर आता है। एक ...

बचपन शरारतों और मासूमियत से भरा होता है। बचपन की कल्पना करते ही हमें उनका दिन-रात का वो खेलना याद आत...

नवजात शिशु सबको प्यारे लगते हैं और इसलिए हम चाहते हैं कि वह हमेशा स्वस्थ रहें। मगर, गैस की समस्या लग...

मालिश एक ऐसा आनंददायी प्रक्रिया है जो न सिर्फ आपके शिशु को आराम देती है, बल्कि उसके स्वास्थ्य को भी ...

मौसम में आए बदलाव और हल्की ठंड के कारण बसंत ऋतु में शिशु की त्वचा पर कई तरह के प्रतिकूल प्रभाव पड़ सक...

कहते हैं बच्चों की हँसी में एक माँ को प्रकृति की सुंदरता दिखाई देती है। लेकिन जब माँ का नवजात शिशु र...

Other articles related to this

जब एक बच्चा इस दुनिया में आता है तो वह अपने माता-पिता के जीवन में खुशियों का पिटारा लेकर आता है। एक माँ-बाप के रूप में आप यह चाहते हैं कि आपका बच्चा हमेशा स्वस्थ और सुरक्षित रहे। इसलिए आप उसे हर संभव तरीके से स्वस्थ

बचपन शरारतों और मासूमियत से भरा होता है। बचपन की कल्पना करते ही हमें उनका दिन-रात का वो खेलना याद आता है, जब ना तो उन्हें सूरज की गर्मी की परवाह रहती है और ना ही ठंडी हवाओं से ठिठुरने का अहसास।

नवजात शिशु सबको प्यारे लगते हैं और इसलिए हम चाहते हैं कि वह हमेशा स्वस्थ रहें। मगर, गैस की समस्या लगभग हर नवजात शिशु को परेशान करती है। दरअसल नवजात शिशु अपने आहार के लिए पूर्णतः दूध पर ही निर्भर होता है। दूध पीने

मालिश एक ऐसा आनंददायी प्रक्रिया है जो न सिर्फ आपके शिशु को आराम देती है, बल्कि उसके स्वास्थ्य को भी बेहतर बनाती है। अपने शिशु की मालिश करने का एक अच्छा समय है जब वह जाग रहा हो और सहज हो।

मौसम में आए बदलाव और हल्की ठंड के कारण बसंत ऋतु में शिशु की त्वचा पर कई तरह के प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकते हैं, जिनमें सबसे प्रमुख है त्वचा का रुखी होना और खुजली होना। इससे शिशु एकदम बेचैन हो जाता है।

कहते हैं बच्चों की हँसी में एक माँ को प्रकृति की सुंदरता दिखाई देती है। लेकिन जब माँ का नवजात शिशु रोता है तब यही माँ उसका रोना बंद करने के लिए हर संभव उपाय व प्रयास करती है।

जननम कम्युनिटी से जुड़ने के फायदे!

Join the #1 global parenting resource and start receiving the following helpful newsletter:

Join the community now!

Fill the following & enjoy perks!

Due Date or child's birthday