नवप्रसूताओं के लिए कुलथी दाल के फ़ायदे और सेवन के तरीके

कुलथी दाल दूसरी आम दालों की तरह ही होती है, लेकिन इसके गुण जानकर आप हैरान रहे जाएंगे। इसके औषधीय गुणों के बारे में कम ही लोगों को पता है। अन्य दालों की तुलना में कुलथी दाल में पोषक तत्वों का भंडार होता है। इसमें 25 प्रतिशत प्रोटीन होता है, जो सोयबीन के लगभग आधा होता है। तो वहीं प्रचूर मात्रा में आयरन भी पाया जाता है।

कुलथी दाल का पानी या सूप का सेवन महिलाओं के लिए बहुत लाभकारी होता है। आयुर्वेद के अनुसार महिलाओं को नियमित रूप से एक चम्मच कुलथी दाल के पाउडर का सेवन करना चाहिए। खासकर प्रसव के उपरांत 45 दिनों तक इसके सेवन से विशेष लाभ मिलता है।

  • भरपूर आयरन गर्भावस्था के दौरान महिलाओं में खून की कमी को रोकता है।
  • सर्दी और खांसी से पीड़ित गर्भवती महिलाओं के कफ विकार को दूर करने और कफ निकालने में मददगार होती है।
  • इस दाल के सेवन से प्रसव और स्तनपान के दौरान नवप्रसूता और नवजात दोनों को काफी फ़ायदा होता है।
  • यह नवप्रसूताओं में दूध बढ़ाने में कारगर है।
  • प्रसव के बाद होनेवाले बुखार को नियंत्रित करने में कारगर होती है।
  • इससे वजन भी नियंत्रित रहता है।
  • फाइबर से भरपूर ये दाल कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित रखती है।
  • अपच की समस्या में इसका सेवन फायदेमंद होता है।

कुलथी दाल का सूप

कुलथी दाल का सूप एक अच्छा तरीका हो सकता है। इसके लिए एक छोटी कटोरी दाल को एक घंटे के लिए भिगो दें। उसके बाद कुकर में दाल और चार कटोरी पानी डाल दें। फिर इसमें स्वादानुसार नमक, हल्की काली मिर्च डालकर पकाएं। कुकर से स्टीम निकल जाने के बाद दाल को छानकर पानी अलग कर लें और इस पानी में घी या मक्खन डालकर कर पिएं।

navaprasootaon ke lie kulathee daal ke faayade aur sevan ke tareeke

कुलथी दाल

साधारण दाल की तरह भी आप कुलथी दाल का सेवन कर सकती हैं। इसे बनाने के लिए पहले इसे एक घंटे तक भिगो लें, फिर इसमें पानी, नमक और हल्दी डालकर कुकर में उबालें। जब दाल पक जाए, तो देसी घी, राई, हींग, लहसुन, टमाटर का तड़का लगा लें। फिर इसे रोटी या चावल के साथ खाएं।

navaprasootaon ke lie kulathee daal ke faayade aur sevan ke tareeke

अंकुरित कुलथी दाल भिंगोयी हुई कुलथी दाल की तुलना में ज्यादा फायदेमंद होती है।

navaprasootaon ke lie kulathee daal ke faayade aur sevan ke tareeke

Summary : Kulith Dal is used to remove iron deficiency in women. Apart from this, it is good to eat during regular and heavy bleeding. Kulith is rich in protein and vitamins. It increases the production of milk in mothers.

सारांश : महिलाओं में आयरन की कमी को दूर करने के लिए कुलथी दाल का उपयोग किया जाता है। इसके अलावा, नियमित और ज़्यादा रक्तस्राव के दौरान इसे खाने से फ़ायदा होता है। प्रोटीन और विटामिन युक्त कुलथी से नवप्रसूताओं में दूध बढ़ता है। प्रसव के बाद 45 दिन तक इसके सेवन से विशेष लाभ मिलता है।

यह भी पढ़ें : -

आज ही जननम फेसबुक कम्युनिटी को ज्वाइन करें जहा हमारे एक्सपर्ट्स प्रेगनेंसी के हर पहलु पर टिप्स दे रहे है - यहाँ क्लिक करें

जननम आपको सही, सटीक और उपयोगी जानकारी उपलब्ध कराने के लिए हमेशा आपके साथ हैं। लेकिन इसी के साथ आपको डॉक्टर से सलाह लेना भी ज़रूरी है।

यह वीडियो देखें : -


Other articles related to this

गर्भावस्था के नौ महीने और प्रसव के बाद महिलाओं के शरीर में कई बदलाव आते हैं। इन 9 महीनों के दौरान गर...

नटखट मुस्कुराते बच्चों को गोद में बैठाकर खाना खिलाना हर माँ का पसंदीदा काम होता है। जन्म के बाद से ह...

2 साल से 10 साल तक के बच्चों की त्वचा और बाल सबसे अधिक सर्दियों के मौसम में प्रभावित होते हैं। खेलने...

बच्चों की त्वचा इतनी नाज़ुक होती है कि उसे छूने में भी डर लगता है कि कहीं कुछ परेशानी ना हो जाए। फिर ...

बच्चों को दलिये से स्नान कराना एक बेहद प्राचीन, साधारण और आसान तरीका है, जिसके द्वारा आप अपने बच्चे ...

“आपको जीवन की सबसे बड़ी खुशी, जो है माँ बनने की, मुबारक हो” शुभकामनाओं से भरा यह संदेश आप उस पल से सु...

Other articles related to this

गर्भावस्था के नौ महीने और प्रसव के बाद महिलाओं के शरीर में कई बदलाव आते हैं। इन 9 महीनों के दौरान गर्भवती को अपना खास ख्याल रखना होता है। शिशु होने के बाद प्रसूता काफी कमजोर हो जाती है और उसे

नटखट मुस्कुराते बच्चों को गोद में बैठाकर खाना खिलाना हर माँ का पसंदीदा काम होता है। जन्म के बाद से ही नन्हा शिशु अपने भोजन के लिए माँ के स्तन-दूध पर ही निर्भर होता है। लेकिन जब शिशु जब चार-पाँच माह का हो जाता है तब माँ की यह

2 साल से 10 साल तक के बच्चों की त्वचा और बाल सबसे अधिक सर्दियों के मौसम में प्रभावित होते हैं। खेलने-कूदने और स्कूल जाने के कारण इन बच्चों को सबसे अधिक धूल-मिट्टी और प्रदूषण का सामना करना पड़ता है। इस कारण उनके बाल

बच्चों की त्वचा इतनी नाज़ुक होती है कि उसे छूने में भी डर लगता है कि कहीं कुछ परेशानी ना हो जाए। फिर सोचिए कि उसकी त्वचा पर कोई केमिकल युक्त स्क्रब का इस्तेमाल आप कैसे कर सकती हैं?

बच्चों को दलिये से स्नान कराना एक बेहद प्राचीन, साधारण और आसान तरीका है, जिसके द्वारा आप अपने बच्चे की त्वचा को नर्म और मुलायम बनाने के साथ ही डायपर पहनने के कारण हुए लाल चकत्तों से भी निजात दिला सकती हैं। दलिये का स्नान ना

“आपको जीवन की सबसे बड़ी खुशी, जो है माँ बनने की, मुबारक हो” शुभकामनाओं से भरा यह संदेश आप उस पल से सुन रहीं है जब से एक नन्ही जान आपके हाथों में आई है। इस नन्ही जान के जब मासूम हाथों ने आपको

जननम कम्युनिटी से जुड़ने के फायदे!

Join the #1 global parenting resource and start receiving the following helpful newsletter:

Join the community now!

Fill the following & enjoy perks!

Due Date or child's birthday