ये 4 प्राकृतिक उपाय अपनाकर अपने बच्चे के बालों को रूसी से बचाएं

बालों में रूसी हो जाने की समस्या आजकल बहुत आम हो चुकी है, लेकिन जब ये रूसी आपके नन्हे से बच्चे के सिर में हो जाए तो आपके लिए ये किसी परेशानी से कम नहीं है। क्योंकि आप नहीं चाहेंगी कि आपका बच्चा हर समय सिर खुजलाता रहे या फिर किसी भी प्रकार के संक्रमण से ग्रस्त रहे।

बालों में रूसी की समस्या से आप अपने बच्चे को इन उपायों की मदद से बहुत ही आसानी से छुटकारा दिलवा सकती हैं-

बच्चों के बा की रूसी हटाने के उपाय

(1) आधा कटोरी खट्टे दही में दो चुटकी हल्दी और आधा चम्मच विटामिन ई का तेल अच्छी तरह से मिला कर फेंट लें। अब ये मिश्रण अपने बच्चे के सिर की त्वचा में अच्छी तरह से लगा दें। बाकी बचे मिश्रण को बच्चे के बालों में लगा दें। इसको आधा घंटा ऐसे ही रहने दें। बाद में घर पर बनाए हुए रीठा, आँवला और शिकाकाई के शैम्पू से बच्चे का सिर धो दें। ऐसा सप्ताह में एक बार करें। एक महीने के अन्दर रूसी पूरी तरह से ख़त्म हो जाएगी।

 ये 4 प्राकृतिक उपाय अपनाकर अपने बच्चे के बालों को रूसी से बचाएं

(2) एक चौथाई कटोरी पीली सरसों के गुनगुने तेल में एक चम्मच विटामिन ई का तेल, दो चुटकी हल्दी और एक चम्मच कपूर का चूरा मिला कर बच्चे के बालों की जड़ों में अच्छी तरह से लगा कर मसाज करें। बाद में बचे हुए तेल को नीचे के बालों में लगा दें। इसको पूरी रात ऐसे ही रहने दें और अगले दिन घर के बने शैम्पू से सिर धो लें। ऐसा आप सप्ताह में दो बार करें। 

 ये 4 प्राकृतिक उपाय अपनाकर अपने बच्चे के बालों को रूसी से बचाएं

(3) पांच चम्मच बादाम का तेल, पांच चम्मच जैतून का तेल, दो चम्मच अरंडी का तेल और एक चम्मच विटामिन ई का तेल मिला कर बालों में जड़ों से सिरे तक लगा कर मसाज करें। इसको पूरी रात तक रखें। अगले दिन घर के बने हुए शैम्पू से बालों को धो लें। इस तेल का प्रयोग आप सप्ताह में तीन बार कर सकती हैं।

 ये 4 प्राकृतिक उपाय अपनाकर अपने बच्चे के बालों को रूसी से बचाएं

(4) एक कटोरी नारियल तेल में सूखी मेथी का पाउडर और एक गुच्छा करीपत्ता डाल कर अच्छी तरह से पका लें। जब तेल आधा रह जाए तो उसके गुनगुना होने तक इंतज़ार करें। गुनगुने तेल को जड़ों से सिरे तक बच्चे के बालों में लगाएं। इस तेल का प्रयोग आप रोज़ाना कर सकती हैं। इस तेल को बनाकर स्टोर भी कर सकते हैं। यह तेल 6 महीने तक ख़राब नहीं होता है।

 ये 4 प्राकृतिक उपाय अपनाकर अपने बच्चे के बालों को रूसी से बचाएं

जननम कहे हां

  • घर पर बनाए गए हेयर मास्क का प्रयोग
  • घर पर बनाए गए तेल का प्रयोग
  • सप्ताह में तीन बार शैम्पू (घर का बना)
  • दो साल से अधिक उम्र वाले बच्चों के सिर में इस शैम्पू का इस्तेमाल

 

जननम कहे ना

  • बाज़ार में उपलब्ध एंटी डैंड्रफ शैम्पू का इस्तेमाल
  • रोज़ाना शैम्पू
  • 0 से 2 वर्ष तक के बच्चे के सिर पर इस शैम्पू का प्रयोग

 

सारांश : आजकल प्रदूषण के बढ़ते स्तर के कारण बच्चों में डैंड्रफ की समस्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। रेडीमेड एंटी-डैंड्रफ शैम्पू और मास्क आपके बच्चे के नाजुक बालों के लिए हानिकारक हैं। इससे बालों का जल्दी पकना और झड़ना शुरू हो सकता है। इसलिए सुझाव है कि आपको अपने बच्चे के लिए जहां तक संभव हो, होममेड और हर्बल हेयर केयर उत्पादों का उपयोग ही करना चाहिए।

Summary: Nowadays the problem of dandruff in children is increasing day by day due to increasing levels of pollution. Readymade anti-dandruff shampoo and mask are harmful for your child's delicate hair. This can cause early hair ripening and loss. Therefore it is suggested that you should use homemade and herbal hair care products for your child as far as possible.

यह भी पढ़ें : -

आज ही जननम फेसबुक कम्युनिटी को ज्वाइन करें जहां हमारे एक्सपर्ट्स प्रेगनेंसी के हर पहलू पर टिप्स दे रहे हैं -यहाँ क्लिक करें

जननम आपको सही, सटीक और उपयोगी जानकारी उपलब्ध कराने के लिए हमेशा आपके साथ हैं। लेकिन इसी के साथ आपको डॉक्टर से सलाह लेना भी ज़रूरी है।


Other articles related to this

शिशु के अंग बहुत कोमल होते हैं। नाक साफ रहने से बच्चे को इंफेक्शन होने की आशंका कम होती है। शिशु को ...

आम तौर पर, हम 12 से 36 महीने की उम्र के बच्चों को शिशु मानते हैं। इन्हें ही बेबी या 'टॉडलर' कहते हैं...

एक बच्चे को जन्म देना एक महिला के जीवन में सबसे विशेष घटनाओं में से एक है। प्रसव के बाद ख़ुशी और उत्स...

स्तनपान शिशुओं के लिए संपूर्ण पोषण का काम करता है। पोषण के अलावा स्तनपान के ज़रिये बच्चे के शरीर में...

किसी भी परिवार में बच्चे का जन्म अनंत खुशियों का कारण होता है। कुछ समय पहले तक बच्चे का जन्म घर में ...

स्तनपान एक माँ और बच्चे का प्राकृतिक जुड़ाव है। स्तनपान करना बच्चे के स्वास्थ्य के लिए अत्यंत लाभदायक...

Other articles related to this

शिशु के अंग बहुत कोमल होते हैं। नाक साफ रहने से बच्चे को इंफेक्शन होने की आशंका कम होती है। शिशु को सांस लेने में कोई परेशानी न हो और किसी भी तरह के संक्रमण से उसे बचाया जा सके, इसके लिये नियमित रूप

आम तौर पर, हम 12 से 36 महीने की उम्र के बच्चों को शिशु मानते हैं। इन्हें ही बेबी या 'टॉडलर' कहते हैं। यानी जो ठीक तरह से अभी अपने कदम नही रख पाते। ये ऐसी अवस्था है, जब बच्चे जहां चलना सीख रहे होते हैं, वहीं

एक बच्चे को जन्म देना एक महिला के जीवन में सबसे विशेष घटनाओं में से एक है। प्रसव के बाद ख़ुशी और उत्साह के साथ कुछ शारीरिक चुनौतियाँ भी आती हैं। यदि यह सामान्य प्रसव हो, तो अपेक्षाकृत कम परेशानियां हो

स्तनपान शिशुओं के लिए संपूर्ण पोषण का काम करता है। पोषण के अलावा स्तनपान के ज़रिये बच्चे के शरीर में आवश्यक खनिज और विटामिन भी पहुचते हैं। उनकी पाचन शक्ति मजबूत बनती है। मां के दूध में एंटी

किसी भी परिवार में बच्चे का जन्म अनंत खुशियों का कारण होता है। कुछ समय पहले तक बच्चे का जन्म घर में ही किए जाने वाला काम माना जाता था। लेकिन खुशियों के इस सफर को जारी रखने के लिए कुछ सावधानियाँ बरतनी

स्तनपान एक माँ और बच्चे का प्राकृतिक जुड़ाव है। स्तनपान करना बच्चे के स्वास्थ्य के लिए अत्यंत लाभदायक होता है, मगर कभी-कभी बच्चे स्तनपान करने से इंकार करने लगते हैं और इसी कारण माँ भी तनाव में आ जाती है।

जननम कम्युनिटी से जुड़ने के फायदे!

Join the #1 global parenting resource and start receiving the following helpful newsletter:

Join the community now!

Fill the following & enjoy perks!

Due Date or child's birthday