नवप्रसूताओं के लिए मेथी लड्डू के फायदे और बनाने की विधि

navaprasootaon ke lie methee laddoo ke phaayade aur banaane kee vidhi

नवप्रसूता को स्वस्थ और पौष्टिक आहार लेने की सलाह दी जाती है। कई घरों में महिलाओं को बहुत सारे घी वाले व्यंजन खिलाए जाते हैं, तो कई जगह प्रसव के बाद भिन्न-भिन्न प्रकार के लड्डू बनाकर दिए जाते हैं। हालांकि, एकल परिवार (nuclear families) में नवप्रसूताओं को खाने-पीने के पुरातन और पौष्टिक तरीकों के बारे में जानकारी देनेवाला कोई नहीं होता, ऐसे में वो थोड़ा कन्फ्यूज़ रहती हैं कि क्या खाएं और क्या नहीं। ये आलेख विशेषकर वैसी ही नई माताओं के लिए है। प्रसव के बाद महिलाओं को खाने-पीने की सलाह दी जाती है, उनमें मेथी के लड्डू खासतौर पर शामिल हैं। मेथी मां के दूध को बढ़ाती है।

प्रसव के बाद मेथी खाने के फायदे 

(1) मैथी शरीर में अतिरिक्त वसा नहीं जमने देती।

(2) स्तनपान कराने से स्तनों के आकार में आनेवाले बदलाव को रोकने में कारगर है। नियमित सेवन से स्तन जल्दी सामान्य आकार में लौट आते हैं।

(3) नवप्रसूताओं में दूध का स्तर बढ़ाने के लिए रोज़ाना करीब 350 मिलीग्राम मेथी खाना फायदेमंद होता है।

(4) प्रसव के बाद ज्यादातर महिलाओं में एनीमिया और कमजोरी बड़ी समस्या है। शरीर में आयरन की कमी से प्रसव के बाद ऐसी समस्या आम है। मेथी में मिनरल्स की भरपूर मात्रा होती है, जो एनिमिया के इलाज में कारगर है।

navaprasootaon ke lie methee laddoo ke phaayade aur banaane kee vidhi

(5) मेथी में आयरन, मैग्नीशियम, विटामिन बी 6 और मैंगनीज जैसे पोषक तत्व होते हैं। इससे गठिया और जोड़ों के दर्द से राहत मिलती है।

(6) जोड़ों के दर्द से परेशान लोगों को प्रतिदिन खाली पेट एक चाय चम्मच पिसी मेथी गर्म पानी के साथ खाने से आराम मिलता है।

(7) मेथी शरीर से टॉक्सिन यानी विषैले तत्वों को बाहर निकालती है। प्रसव के दौरान जो गंदगी गर्भाशय में जमा होती है, मेथी के नियमित सेवन से वह बाहर निकल जाती है।

मेथी का सेवन कई तरीके से किया जा सकता है। इमें मेथी के लड्डू एक है।

मेथी के लड्डू बनाने के लिए सामग्री

  • मेथी दाना - 100 ग्राम
  • गेहूं का आटा - 2 कप
  • सोयाबीन का आटा - 3 कप
  • काजू पाउडर - 2 कप
  • बादाम पाउडर - 1 कप
  • पिस्ता पाउडर - 1/2 कप
  • दूध - 3 कप
  • गोंद - 100 ग्राम (कद्दूकस किया हुआ)
  • सूखा नारियल - 1/2 कप
  • गुड़ - 2-1/2 कप (कद्दूकस किया हुआ)

बनाने की विधि

समय - 1 से 2 घंटे

कढ़ाही को अच्छी तरह से गर्म कर लें। अब धीमी आंच पर रखकर इसमें मेथी को भूने। इससे मेथी कड़वी नहीं रहेगी। जब मेथी ब्राउन हो जाए, तो इसे निकालकर मिक्सी में पीस लें। अब एक कप घी लें और उसे पिघलायें। इसमें मेथी का पाउडर डालें। काजू, पिस्ता, बादाम, थोड़ा सा स्लाइन पाउडर एक अलग पैन में लेकर हल्का भून लें। अब गेहूं का आटा और सोयाबीन का आटा सुनहरा होने तक भून लें।

इन सभी सामग्रियों को अच्छी तरह से मिला लें। एक पैन में 2 से 3 कप पानी डालें और उसमें गुड़ डालकर गरम करें। जब गुड़ अच्छी तरह से पिघल जाए, तो मिश्रण को मिला दें। जब सभी सामग्री पूरी तरह से मिक्स हो जाए, तो उसे ठंडा होने दें फिर मिश्रण को हाथ में ले लें और हल्के हाथ से गोल-गोल लड्डू बनायें।

नोटमेथी के लड्डू की सामग्री में सौंठ को भी शामिल कर सकती हैं। 10 लड्डू के लिए 2 चम्मच सौंठ पाउडर काफी है।

 

 

navaprasootaon ke lie methee laddoo ke phaayade aur banaane kee vidhi

सारांश : मेथी नवप्रसूताओं के कई तरह से फायदेमंद है। यह स्तन के दूध को बढ़ाने में सहायक तो है ही, साथ ही गर्भाशय को साफ भी करती है। गैस, कब्ज, अपच की समस्या भी दूर होती है और शरीर का मेटाबॉलिज्म भी सही रहता है।

Summary : Fenugreek is beneficial for new mothers in many ways. It is helpful an increase in the breast milk. Its cleans the uterus. The problem of Gas, constipation, indigestion also removed and it also keeps your body's metabolism right.

यह भी पढ़ें :-

आज ही जननम फेसबुक कम्युनिटी को ज्वाइन करें जहाँ हमारे एक्सपर्ट्स प्रेगनेंसी के हर पहलु पर टिप्स दे रहे है - यहाँ क्लिक करें

जननम आपको सही, सटीक और उपयोगी जानकारी उपलब्ध कराने के लिए हमेशा आपके साथ हैं। लेकिन इसी के साथ आपको डॉक्टर से सलाह लेना भी ज़रूरी है।


Other articles related to this

हिंदू धर्म में जिन 16 संस्कारों का महत्व धार्मिक और वैज्ञानिक दोनों ही तरीकों से है, उन्हीं में से च...

जिस नन्ही सी जान का माँ को नौ महीने बेसब्री से इंतज़ार था, आखिर वो इस दुनिया में आ ही गया। उस प्यारे...

बरसात का मौसम किसे पसंद नहीं होता। वर्षा की बूँदें गर्मी की तपन को दूर करने के साथ-साथ एक खुशनुमा मा...

वसंत का मौसम त्वचा के लिए दुविधा भरा होता है। इस समय में त्वचा को बहुत अधिक मॉइस्चराइज करने की भी आव...

शिशु के अंग बहुत कोमल होते हैं। नाक साफ रहने से बच्चे को इंफेक्शन होने की आशंका कम होती है। शिशु को ...

अगर आप हाल ही में मां बनी हैं तो घर से बाहर निकलना भी आपके लिए मुश्किल हो रहा होगा, सैलून या ब्यूटी ...

Other articles related to this

हिंदू धर्म में जिन 16 संस्कारों का महत्व धार्मिक और वैज्ञानिक दोनों ही तरीकों से है, उन्हीं में से चौथा संस्कार है जातकर्म संस्कार। इस संस्कार को गर्भ के आठवें महीने में किया जाता है। शिशु के जन्म के वक्त भी यह संस्कार किया जाता है। इसके बारे

जिस नन्ही सी जान का माँ को नौ महीने बेसब्री से इंतज़ार था, आखिर वो इस दुनिया में आ ही गया। उस प्यारे से, नन्हे से बच्चे के आने से तो माँ के मन में केवल ख़ुशी की तरंगे लहरनी चाहिए! तो फिर नई माँ को हो रही यह गंभीर उदासी क्या हैं? इसे

बरसात का मौसम किसे पसंद नहीं होता। वर्षा की बूँदें गर्मी की तपन को दूर करने के साथ-साथ एक खुशनुमा माहौल भी लेकर आती हैं। जहाँ एक ओर बारिश की वजह से गर्मी में राहत मिलती है, वहीं दूसरी ओर बालों और

वसंत का मौसम त्वचा के लिए दुविधा भरा होता है। इस समय में त्वचा को बहुत अधिक मॉइस्चराइज करने की भी आवश्यकता नहीं होती और मॉइस्चराइज न करने पर रूखापन भी महसूस होता है। ऐसे में बाज़ार में उपलब्ध मॉइस्चराइज़र

शिशु के अंग बहुत कोमल होते हैं। नाक साफ रहने से बच्चे को इंफेक्शन होने की आशंका कम होती है। शिशु को सांस लेने में कोई परेशानी न हो और किसी भी तरह के

अगर आप हाल ही में मां बनी हैं तो घर से बाहर निकलना भी आपके लिए मुश्किल हो रहा होगा, सैलून या ब्यूटी पार्लर जाना तो बहुत दूर की बात है। ऐसे समय में जब शिशु

जननम कम्युनिटी से जुड़ने के फायदे!

Join the #1 global parenting resource and start receiving the following helpful newsletter:

Join the community now!

Fill the following & enjoy perks!

Due Date or child's birthday