नवप्रसूता के लिए ऐसे बनाएं बाजरे की खीर

बच्चे के जन्म के बाद महिलाओं का शरीर बेहद कमज़ोर हो जाता है। उस पर शिशु के पालन पोषण से शरीर में बहुत अधिक थकावट भी हो जाती है। ऐसे में ज़रूरी है कि प्रसव के बाद महिलाओं को ऐसा भोजन मिले, जिससे उनके शरीर में ज़रूरी पोषक तत्व भी सही मात्रा में पहुंचें और साथ ही प्रसव के बाद होने वाली माहवारी भी सही ढंग से हो। बाजरे की खीर इसमें सहायता कर सकती है।

बाजरा एक ऐसा खाद्य पदार्थ है, जिसमें भरपूर मात्रा में प्रोटीन, फैट, मिनरल, कार्बोहाइड्रेट, कैल्शियम, फॉस्फोरस और आयरन होता है। इसके अलावा इसकी तासीर भी गर्म होती है, जिससे माहवारी के दौरान परेशानी नहीं होती। प्रसव के बाद नियमित रूप से बाजरे की खीर खाने से शरीर में कमज़ोरी दूर होती है और उचित पोषक तत्व भी मिलते हैंतो आइए जानते हैं इसे बनाने की विधि। इसे बनाने के लिए आपको निम्नलिखित चीज़ें चाहिए-

  • एक कप बाजरा
  • एक लीटर दूध
  • 5 बारीक कटे बादाम5 बारीक कटे पिस्ताएक कप गुड़ का पाउडर

बाजरे को साफ़ पानी में 4 घंटे तक भिगो कर रखें। भीगे हुए बाजरे को मिक्सी में दरदरा पीस लें। ध्यान रखें कि पेस्ट थोड़ा मोटा रहे।अब एक पतीले में दूध उबाल लें। उबलते हुए दूध में बाजरा डाल कर तेज़ आंच में एक उबाल लगा लें और फिर आंच धीमी कर दें। इस मिश्रण को 25 से 30 मिनट तक पकाएं। मिश्रण को बीच-बीच में चलाते रहें, ताकि तले में न लगे। जब दूध का रंग बदल जाए और खीर में गाढ़ापन आ जाए, तो गैस बंद कर दें और इसमें गुड़ का चूरा मिला कर चलाएं। गरमा-गर्म खीर में बादाम और पिस्ता मिला कर खाएं।

जननम कहे हां

  • बाजरे को भिगोने से पहले साफ़ करना
  • खीर में फुल क्रीम दूध का इस्तेमाल

जननम कहे ना

  • खीर को ठंडा खाना
  • खीर में चीनी का इस्तेमाल
नवप्रसूता के लिए ऐसे बनाएं बाजरे की खीर

सारांश : पर्ल बाजरे को आम तौर पर भारत में बाजरा के रूप में जाना जाता है। बाजरा पोषक तत्वों से भरपूर होता है क्योंकि इसमें प्रोटीन, वसा, खनिज, फाइबर, कार्बोहाइड्रेट, कैल्शियम, फॉस्फोरस और आयरन होता है। नवप्रसूता महिलाओं के लिए बाजरे की खीर या पर्ल बाजरा दलिया बहुत ही स्वास्थ्यवर्द्धक भोजन है। यह शरीर को सभी आवश्यक पोषक तत्व देता है और नई माताओं को स्वस्थ रखता है।

Summary: Pearl millet is known generally as millet in India. Millet is rich in nutrients because it contains proteins, fats, minerals, fiber, carbohydrate, calcium, phosphorus and iron. Bajra kheer or Pearl millet porridge is very healthy food for newlyweds. It gives the body all the essential nutrients and keeps new mothers healthy.

आज ही जननम फेसबुक कम्युनिटी को ज्वाइन करें जहां हमारे एक्सपर्ट्स प्रेगनेंसी के हर पहलू पर टिप्स दे रहे हैं -यहाँ क्लिक करें

जननम आपको सही, सटीक और उपयोगी जानकारी उपलब्ध कराने के लिए हमेशा आपके साथ हैं। लेकिन इसी के साथ आपको डॉक्टर से सलाह लेना भी ज़रूरी है।

 


Other articles related to this

सौंठ यानी सूखे अदरक का पाउडर प्रसव के बाद महिलाओं के लिए संजीवनी बूटी से कम नहीं है। इसके लगातार इस्...

हरीरा या पंजीरी भारतीय घरों में महिलाओं को प्रसव के बाद दिया जाने वाला एक पारंपरिक भोजन है। हरीरा जि...

गर्भावस्था के नौ महीने और प्रसव के बाद महिलाओं के शरीर में कई बदलाव आते हैं। इन 9 महीनों के दौरान गर...

गर्भावस्था और प्रसव के बाद नवप्रसूता को विशेष देखभाल की ज़रूरत होती है। उसे ज़्यादा से ज़्यादा मात्र...

बच्चों की त्वचा इतनी नाज़ुक होती है कि उसे छूने में भी डर लगता है कि कहीं कुछ परेशानी ना हो जाए। फिर ...

गर्भावस्था के नौ महीने बीतने का इंतज़ार परिवार का हर छोटा-बड़ा सदस्य करता है। जैसे-जैसे प्रसव की निर्ध...

Other articles related to this

सौंठ यानी सूखे अदरक का पाउडर प्रसव के बाद महिलाओं के लिए संजीवनी बूटी से कम नहीं है। इसके लगातार इस्तेमाल से महिलाओं का प्रसव के बाद का समय बिना किसी शारीरिक परेशानी के व्यतीत होता है। सदियों से भारतीय घरों में प्रसव के

हरीरा या पंजीरी भारतीय घरों में महिलाओं को प्रसव के बाद दिया जाने वाला एक पारंपरिक भोजन है। हरीरा जितना सेहत के लिये फायदेमंद है, उतना ही स्वादिष्ट भी होता है। यह गर्भाशय को फिर से पुराने आकार में लौटाने

गर्भावस्था के नौ महीने और प्रसव के बाद महिलाओं के शरीर में कई बदलाव आते हैं। इन 9 महीनों के दौरान गर्भवती को अपना खास ख्याल रखना होता है। शिशु होने के बाद प्रसूता काफी कमजोर हो जाती है और उसे

गर्भावस्था और प्रसव के बाद नवप्रसूता को विशेष देखभाल की ज़रूरत होती है। उसे ज़्यादा से ज़्यादा मात्रा में पौष्टिक आहार मिलना चाहिए, जिससे वो स्वस्थ बच्चे को जन्म दे सके। इतना ही नहीं स्तनपान कराने के दौरान भी महिलाओं को ऐसे खाद्य

बच्चों की त्वचा इतनी नाज़ुक होती है कि उसे छूने में भी डर लगता है कि कहीं कुछ परेशानी ना हो जाए। फिर सोचिए कि उसकी त्वचा पर कोई केमिकल युक्त स्क्रब का इस्तेमाल आप कैसे कर सकती हैं?

गर्भावस्था के नौ महीने बीतने का इंतज़ार परिवार का हर छोटा-बड़ा सदस्य करता है। जैसे-जैसे प्रसव की निर्धारित तिथि नज़दीक आती है, सभी खुशी और उत्साह में डूब कर आने वाले नन्हें मेहमान के स्वागत के लिए अपने को

जननम कम्युनिटी से जुड़ने के फायदे!

Join the #1 global parenting resource and start receiving the following helpful newsletter:

Join the community now!

Fill the following & enjoy perks!

Due Date or child's birthday